Latest :
प्रत्‍यर्पण विधेयक को लेकर बैकफुट पर हांगकांग सरकार, ड्रैगन ने ली राहत की सांसजानिए क्या हैं Gratuity के नियम और कैसे करते हैं इसका कैलकुलेशनइस खिलाड़ी को बोर्ड ने एक साल के लिए किया बैन, वर्ल्ड कप में तोड़ा था अनुशासनहाथों में तिरंगा थामे Hina Khan ने 'India Day Parade' में ऐसे चलाया जादू,जीरकपुर में आफत की बारिश : घरों में भरा पानी, अगले दो दिन के लिए अलर्ट कांग्रेस को बडा़ झटका, हुड्डा ने पकड़ी अलग राह, बोले- अतीत से हुआ मुक्‍त, पहले वाली कांग्रेस नहीं रही, भटकी राहकई रातें जागकर श्रद्धा ने सीखे अपने तेलुगु डायलॉग्स, प्रभास ने भी की मददतेज बारिश से अजमेर में ढहा मकान, पुष्कर के डूब क्षेत्र में खाली कराए होटलइंग्लैंड के लिए बुरी खबर, टीम को पहला विश्व कप जिताने वाले मॉर्गन छोड़ेंगे कप्तानी !ढाई माह के बाद शुरू हुआ मत्स्य आखेट, पहले दिन पकड़ी गई 22 मीट्रिक टन मछली
Haryana

छात्र संघ के चुनाव से पहले ही मचा संग्राम, अब इस बात पर उठ रहा विवाद

August 05, 2018 10:33 AM

Star Khabre, Haryana; 05th August : हरियाणा सरकार ने अपना चुनावी वादा पूरा करते हुए सितंबर-अक्टूबर में छात्र संघ के चुनाव कराने का एलान तो कर दिया है, लेकिन चुनाव सीधे नहीं कराए जाएंगे। पहले कालेजों में कक्षाओं के प्रतिनिधि और विश्वविद्यालयों में विभागों के प्रतिनिधि चुने जाएंगे। ये प्रतिनिधि ही कालेज और यूनिवर्सिटी के छात्र संघ के अध्यक्ष और बाकी पदाधिकारियों का चुनाव करेंगे। इससे छात्र संगठन सहमत नहीं हैं आर वे प्रत्‍यक्ष चुनाव कराए जाने की मांग कर रहे हैं। इस तरह छात्र संघ चुनाव से पहले ही संग्राम छिड़ता दिख रहा है।

राज्य सरकार ने खारिज की कुलपतियों की कमेटी की आनलाइन चुनाव की सिफारिश

छात्र संघ के चुनाव आनलाइन कराए जाने का प्रस्ताव भी सरकार ने निरस्त कर दिया है। शिक्षा मंत्री द्वारा गठित कुलपतियों की कमेटी ने आनलाइन चुनाव कराने का प्रस्ताव दिया था। प्रदेश के प्रमुख विपक्षी दल इंडियन नेशनल लोकदल के छात्र संगठन इनसो और कांग्रेस की छात्र इकाई एनएसयूआइ इस तरह अप्रत्यक्ष (इनडायरेक्ट) चुनाव कराए जाने के पक्ष में नहीं हैं।

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ से जुड़ी अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद ने भी सरकार के फार्मूले पर एतराज जताया है। दो दिन पहले ही परिषद के प्रांतीय अध्यक्ष डा. राजेंद्र धीमान के नेतृत्व में एक प्रतिनिधिमंडल मुख्यमंत्री मनोहर लाल से मिला था और छात्र संघ के चुनाव सीधे मतदान के जरिये कराने की मांग उठाई थी। पहले भी छात्र संघ चुनाव सीधे कराए जाते थे। एबीवीपी के प्रांतीय संगठन मंत्री श्याम राजावत ने कहा कि लिंगदोह कमेटी की सिफारिशों के आधार पर मतदान के जरिये चुनाव कराने की मांग मुख्यमंत्री से हमने की थी। एबीवीपी अपनी इस मांग पर आज भी कायम है। इनसो के राष्ट्रीय अध्यक्ष दिग्विजय सिंह चौटाला शुरू से ही अप्रत्यक्ष चुनाव कराने के पक्ष में नहीं हैं। उनका कहना है कि सरकार बार-बार गुमराह कर रही है। कालेजों और विश्वविद्यालयों में मतदान के जरिये चुनाव होना चाहिए। इसे लेकर इनसो ने राज्य में बड़ा आंदोलन खड़ा किया। सरकार को झुकना पड़ा और प्रदेश के शिक्षा मंत्री ने रामबिलास शर्मा ने इसका वादा किया था। एनएसयूआइ की हरियाणा इकाई के अध्यक्ष दिव्यांशु बुद्धिराजा भी अप्रत्यक्ष चुनाव कराने के विरोध में हैं। उनका कहना है कि कालेजों और विश्वविद्यालयों ने राजनीति की नई पौध निकलती है। इसलिए छात्रों का हक नहीं छीना जाना चाहिए। प्रदेश में लगभग 22 साल बाद सितंबर और अक्टूबर में छात्र संघ के चुनाव होने हैं। बंसीलाल सरकार के समय छात्र संघ चुनावों पर रोक लगा दी गई थी। इसका कारण चुनावों के दौरान होने वाली हिंसा थी। हरियाणा के सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता राज्य मंत्री कृष्ण कुमार बेदी ने मंत्री समूह की बैठक में हुई चर्चा के हवाले से बताया कि सरकार ने अपना वादा पूरा कर दिया है और सितंबर व अक्टूबर में अप्रत्यक्ष प्रणाली के जरिये चुनाव होंगे, ताकि शिक्षण संस्थानों की गरिमा बनी रहे और किसी तरह की हिंसा का सामना प्रदेश को न करना पड़े। मुख्यमंत्री मनोहर लाल पहले ही जिला उपायुक्तों और पुलिस अधीक्षकों को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग में चुनाव की तैयारी के निर्देश दे चुके हैं। 

 
Have something to say? Post your comment
More Haryana

कांग्रेस को बडा़ झटका, हुड्डा ने पकड़ी अलग राह, बोले- अतीत से हुआ मुक्‍त, पहले वाली कांग्रेस नहीं रही, भटकी राह

पुलिस कर सकती है अहम खुलासा, आरोपी इंस्पेक्टर अभी भी 4 दिन की रिमांड पर

विधानसभा चुनाव से पहले आज जाटलैंड में रैली करने पहुंचेंगे गृहमंत्री अमित शाह

पत्नी के अंतिम संस्कार में शामिल हुए ओपी चौटाला, पिता-पुत्र को मिली दो हफ्ते की पैरोल

चौटाला परिवार को फिर एक करने के अधूरे सपने संग विदा हो गईं स्‍नेहलता

खट्‌टर ने कहा, मंगल पांडे तय समय से 11 दिन पहले गोली न चलाता तो 90 साल पहले ही हम आजाद हो जाते

स्वतंत्रता दिवस, परेड व रिहर्सल में बहाया बच्चों ने पसीना

मना करने पर भी टीचर गलत तरीके से छूता था, छात्राओं के बयान पर जेल भेजा गया

प्रेमी को बुलाकर पत्नी ने कराई थी पति की हत्या, वारदात से पहले बेड में छिपाया था हत्यारोपी प्रेमी

खाना खाकर सो चुका था परिवार; खबर आई कि सुषमा बहनजी नहीं रहीं... हाथ जोड़कर रो पड़े बड़े भाई

 
 
 
 
 
 
Copyright © 2017 Star Khabre All rights reserved.
Website Designed by Mozart Infotech