Latest :
प्रत्‍यर्पण विधेयक को लेकर बैकफुट पर हांगकांग सरकार, ड्रैगन ने ली राहत की सांसजानिए क्या हैं Gratuity के नियम और कैसे करते हैं इसका कैलकुलेशनइस खिलाड़ी को बोर्ड ने एक साल के लिए किया बैन, वर्ल्ड कप में तोड़ा था अनुशासनहाथों में तिरंगा थामे Hina Khan ने 'India Day Parade' में ऐसे चलाया जादू,जीरकपुर में आफत की बारिश : घरों में भरा पानी, अगले दो दिन के लिए अलर्ट कांग्रेस को बडा़ झटका, हुड्डा ने पकड़ी अलग राह, बोले- अतीत से हुआ मुक्‍त, पहले वाली कांग्रेस नहीं रही, भटकी राहकई रातें जागकर श्रद्धा ने सीखे अपने तेलुगु डायलॉग्स, प्रभास ने भी की मददतेज बारिश से अजमेर में ढहा मकान, पुष्कर के डूब क्षेत्र में खाली कराए होटलइंग्लैंड के लिए बुरी खबर, टीम को पहला विश्व कप जिताने वाले मॉर्गन छोड़ेंगे कप्तानी !ढाई माह के बाद शुरू हुआ मत्स्य आखेट, पहले दिन पकड़ी गई 22 मीट्रिक टन मछली
National

तमिलनाडु के पूर्व मुख्यमंत्री और डीएमके प्रमुख एम करुणानिधि का निधन

August 07, 2018 08:26 PM

Star Khabre, Delhi; 07th August : तमिलनाडु के पूर्व मुख्यमंत्री और राजनीतिक दल द्रविड़ मुन्नेत्र कज़गम (डीएमके) के प्रमुख करुणानिधि का मंगलवार को चेन्नई के कावेरी अस्पताल में निधन हो गया। रक्तचाप में तेजी से गिरावट के बाद उन्हें उनके गोपालपुरम आवास से अस्पताल में भर्ती कराया गया था। करुणानिधि के निधन से देश की राजनीति को गहरा धक्का लगा है। सियासी गलियारों में मातम पसर गया है। 

देश की राजनीति में करुणानिधि और उनकी पार्टी का अमिट योगदान रहा है। करुणानिधि के निधन पर तमाम नेताओं ने दुख जताया है। करुणनिधि के निधन की खबर फैलते ही उनके चाहने वालों और तमाम दलों के नेताओं की भीड़ उनके आवास पर जुटने लगी है। अस्पताल के बाहर हजारों की संख्या में गमगीन समर्थक अपने कद्दावर नेता की अंतिम झलक पाने के लिए टकटकी लगाए हुए हैं। 

तेज बारिश के बावजूद लोगों की भीड़ असप्ताल के बाहर जुटी हुई है। भीड़ को संभालने के लिए प्रशासन ने अस्पताल के बाहर भारी तादाद में पुलिसबल तैनात किया है। वहीं करुणानिधि के गोपालपुरम आवास के बाहर भी प्रशासन ने पुलिसबल तैनात कर दिया है।  राजारथिनम स्टेडियम में सुरक्षा बल के 500 और तमिलनाडु स्पेशल फोर्स के 700 जवानों को तैनात किया गया है। 

ऐसे आए थे राजनीति में

अलागिरिस्वामी के भाषणों के करुणानिधि मुरीद थे। अलागिरिस्वामी के भाषण की वजह से ही राजनीति की ओर उनकी रूचि बढ़ने लगी थी। 1938 में 14 साल की कच्ची उम्र में करुणानिधि ने जस्टिस पार्टी का दामन थाम लिया था। जब डीएमके के संस्थापक सी. एन. अन्नादुरई अपने राजनीतिक गुरु ई. वी. रामास्वामी से अलग हुए, तब करुणानिधि उनके साथ आए और पार्टी के संस्थापक सदस्यों में से एक बने। 

1957 में मिली थी पहली जीत

करुणानिधि को उनके राजनीतिक करियर में पहली बार 1957 में सफलता मिली थी। तब उन्होंने करुर जिले की कुलिथली विधानसभा सीट से चुनाव जीता था। इस जीत के बाद उन्हें पहली बार तमिलनाडु विधानसभा में प्रवेश करने का मौका मिला। 1962 में वह विधानसभा में विपक्ष के उपनेता बने। 1967 में तमिलनाडु की अन्नादुरई सरकार में वह पहली बार मंत्री बने। 

1969 में चुने गए डीएमके प्रमुख

1969 में कैंसर से पीड़ित अन्नादुरई की मौत हो गई थी। तब करुणानिधि उनके राजनीतिक उत्तराधिकारी बने। इसके बाद वे मुख्यमंत्री बने फिर पार्टी के प्रमुख भी चुने गए।

 

 
Have something to say? Post your comment
More National

प्रत्‍यर्पण विधेयक को लेकर बैकफुट पर हांगकांग सरकार, ड्रैगन ने ली राहत की सांस

तेज बारिश से अजमेर में ढहा मकान, पुष्कर के डूब क्षेत्र में खाली कराए होटल

फैसले के खिलाफ दायर अर्जी पर चीफ जस्टिस बोले- आधे घंटे पढ़ी, समझ नहीं आया कहना क्या चाहते हो

मध्य प्रदेश समेत 23 राज्यों में आज भारी बारिश की संभावना, केरल और कर्नाटक में 5 दिन में 145 की मौत

शांति और हर्षोल्लास से मनाई जा रही ईद-उल-जुहा, प्रधानमंत्री मोदी ने मुबारकबाद

रजनीकांत ने मोदी और शाह को कृष्ण-अर्जुन की जोड़ी बताया, कहा- अब लोग जानेंगे वे कौन हैं

भारी बारिश के चलते बड़वानी, उज्जैन, मंदसौर और झाबुआ में आज नहीं खुले स्कूल

बीजापुर में बाढ़ में फंसे सभी 13 ग्रामीणों का रेस्क्यू, रायपुर और बिलासपुर संभाग में आज भी भारी बारिश

पाक विमान को मार गिराने वाले विंग कमांडर अभिनंदन को मिल सकता है वीर चक्र

सागौन माफिया ने वनकर्मियों को बंधक बनाकर पीटा, 16 गिरफ्तार

 
 
 
 
 
 
Copyright © 2017 Star Khabre All rights reserved.
Website Designed by Mozart Infotech