Latest :
पिछली बार की तरह बंपर जीत की तरफ भाजपा प्रत्याशी कृष्णपाल गुर्जर, जाने क्यों GST छापा NIT : पूर्व विधायक भाई के समर्थक के घर पड़ा छापा, छुड़ाने पहुंचे पूर्व पार्षदआईटी सेल संयोजक ने मतदाताओं का जताया आभार7-10 मार्किट सहित पूरे फरीदाबाद की सीएलयू पॉलिसी पर हाईकोर्ट ने दिया चौकाने वाला फैसला, जाने क्या हुआ फैसलामतदान रिपोर्ट : पृथला नंबर वन वहीं एनआईटी में पड़े सबसे कम वोट, जाने कहां कितना हुआ मतदानशाहिद अफरीदी ने उगला था जहर, अब गौतम गंभीर ने यूं दिया करारा जवाबआम आदमी की जेब पर झटका! 2 दिन बाद बढ़ें पेट्रोल-डीजल के दाम2020 क्रिसमस: बॉक्स ऑफिस पर होगा दंगल, आमिर खान की बादशाहत को टक्कर देंगे रणबीर और ऋतिकAvengers endgame box office collection day 8: एक हफ्ते में की एवेन्जर्स एंडगेम ने इतने करोड़ की कमाईविद्यासागर इंटरनेशनल स्कूल के छात्रों ने मतदाताओं को किया जागरूक, निकाली रैली
National

तमिलनाडु के पूर्व मुख्यमंत्री और डीएमके प्रमुख एम करुणानिधि का निधन

August 07, 2018 08:26 PM

Star Khabre, Delhi; 07th August : तमिलनाडु के पूर्व मुख्यमंत्री और राजनीतिक दल द्रविड़ मुन्नेत्र कज़गम (डीएमके) के प्रमुख करुणानिधि का मंगलवार को चेन्नई के कावेरी अस्पताल में निधन हो गया। रक्तचाप में तेजी से गिरावट के बाद उन्हें उनके गोपालपुरम आवास से अस्पताल में भर्ती कराया गया था। करुणानिधि के निधन से देश की राजनीति को गहरा धक्का लगा है। सियासी गलियारों में मातम पसर गया है। 

देश की राजनीति में करुणानिधि और उनकी पार्टी का अमिट योगदान रहा है। करुणानिधि के निधन पर तमाम नेताओं ने दुख जताया है। करुणनिधि के निधन की खबर फैलते ही उनके चाहने वालों और तमाम दलों के नेताओं की भीड़ उनके आवास पर जुटने लगी है। अस्पताल के बाहर हजारों की संख्या में गमगीन समर्थक अपने कद्दावर नेता की अंतिम झलक पाने के लिए टकटकी लगाए हुए हैं। 

तेज बारिश के बावजूद लोगों की भीड़ असप्ताल के बाहर जुटी हुई है। भीड़ को संभालने के लिए प्रशासन ने अस्पताल के बाहर भारी तादाद में पुलिसबल तैनात किया है। वहीं करुणानिधि के गोपालपुरम आवास के बाहर भी प्रशासन ने पुलिसबल तैनात कर दिया है।  राजारथिनम स्टेडियम में सुरक्षा बल के 500 और तमिलनाडु स्पेशल फोर्स के 700 जवानों को तैनात किया गया है। 

ऐसे आए थे राजनीति में

अलागिरिस्वामी के भाषणों के करुणानिधि मुरीद थे। अलागिरिस्वामी के भाषण की वजह से ही राजनीति की ओर उनकी रूचि बढ़ने लगी थी। 1938 में 14 साल की कच्ची उम्र में करुणानिधि ने जस्टिस पार्टी का दामन थाम लिया था। जब डीएमके के संस्थापक सी. एन. अन्नादुरई अपने राजनीतिक गुरु ई. वी. रामास्वामी से अलग हुए, तब करुणानिधि उनके साथ आए और पार्टी के संस्थापक सदस्यों में से एक बने। 

1957 में मिली थी पहली जीत

करुणानिधि को उनके राजनीतिक करियर में पहली बार 1957 में सफलता मिली थी। तब उन्होंने करुर जिले की कुलिथली विधानसभा सीट से चुनाव जीता था। इस जीत के बाद उन्हें पहली बार तमिलनाडु विधानसभा में प्रवेश करने का मौका मिला। 1962 में वह विधानसभा में विपक्ष के उपनेता बने। 1967 में तमिलनाडु की अन्नादुरई सरकार में वह पहली बार मंत्री बने। 

1969 में चुने गए डीएमके प्रमुख

1969 में कैंसर से पीड़ित अन्नादुरई की मौत हो गई थी। तब करुणानिधि उनके राजनीतिक उत्तराधिकारी बने। इसके बाद वे मुख्यमंत्री बने फिर पार्टी के प्रमुख भी चुने गए।

 

 
Have something to say? Post your comment
More National

फ्रंट फुट पर शिवपाल यादव, लोकसभा चुनाव में भतीजे से करेंगे हिसाब बराबर!

अमृतसर ब्लास्ट : पंजाब के अमृतसर में निरंकारी भवन में धमाका, 3 की मौत 8 गंभीर घायल...??

UP और उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री एनडी तिवारी का निधन

दर्दनिवारक वोवेरान इंजेक्शन बैन, किडनी पर पड़ रहा था असर

दिल्ली-एनसीआर समेत पूरे उत्तर भारत में आंधी-बारिश का कहर, 56 लोगों की मौत, 27 फ्लाइट डायवर्ट

शववाहन नहीं दिया गया, कंधे पर उठाकर अस्पताल से घर ले जाना पड़ा पत्नी का शव

IIT के 50 पूर्व छात्रों ने नौकरियां छोड़कर बनाई राजनीतिक पार्टी, जानिये क्या है कारण

जेएनयू के एक और प्रोफेसर पर लगा छेड़खानी का आरोप, मामला दर्ज

छोले-भटूरे से फिरा पानी, इन तीन विवादों में घिर गया राहुल गांधी का उपवास

मेघालय : स्वास्थ्य मंत्री के बेटे की कार ने ली पुलिसकर्मी की जान

 
 
 
 
 
 
Copyright © 2017 Star Khabre All rights reserved.
Website Designed by Mozart Infotech