Latest :
सडक़ दुर्घटना में एक गर्भवती महिला की मौत, पति घायलनेता बनने से पहले ही उड़ाने लगे नियमों की धज्जियां, सील इमारत में काम शुरू7 मर्डर व 600 चोरी करने वाला गैंग पकड़ा, हर पाप से पहले करता था 108 बार जापजिले के कांग्रेसियों ने गरीब बच्चों के साथ मनाया इंदिरा गांधी का जन्मदिवसफिर मिली एक नवजात बच्ची, जाने कहांअमृतसर ब्लास्ट : पंजाब के अमृतसर में निरंकारी भवन में धमाका, 3 की मौत 8 गंभीर घायल...??नवनियुक्त पुलिस आयुक्त ने संभाला पदभारफरीदाबाद स्वास्थ्य विभाग में आज एक बड़ी कार्रवाईगंदगी के ढेरों पर सफाई अभियान चलाकर कांग्रेसियों ने दिखाया पर्यावरण मंत्री को स्मार्ट सिटी का आईना गुरूपूर्व के अवसर पर नगर कीर्तन का आयोजन
Faridabad

श्री श्रद्धा रामलीला कमेटी में 50 फुट ऊंचे हवा में दिखाया संजीवनी पर्वत का दृश्य

October 18, 2018 06:16 PM

Star Khabre, Faridabad; 18th October : ओहो: अगर ऐसे ही वीर थे, तो सहस्त्रबाहु को जीत कर क्यों न दिखाया। अगर ताकत थी भी तो धनुष तोड़ कर क्यों न नाम पाया। रावण क्रोध में आकर कहता है….बस, बस नमक हराम, फिर न बोलना ऐसे बेहूदा कलाम, वरना जुबान तालू से निकलवा लूंगा जिनके बल बूते पर तू उछलता है उनका नामो निशान मिटा दूंगा….। यह संवाद अंगद और रावण के बीच में श्री श्रद्धा रामलीला कमेटी के मंच पर दसवें दिन हुआ।
कमेटी के डायरेक्टर अनिल चावला ने बताया कि दसवें दिन रामलीला देखने के लिए दर्शकों की भीड़ बहुत ज्यादा थी। उन्होंने बताया कि स्कूल-कॉलेज की छुट्टी होने के कारण बच्चों की भीड़ काफी अधिक रही।मंच पर दूसरा दृश्य लक्ष्मण और मेघनाथ का युद्ध दिखाया गया। युद्ध के दौरान लक्ष्मण जी बोलते हैं….कहां है, कहां है: वो अन्याई रावण का पुत्र मेघनाथ कहां है। मेघनाथ बाहर आकर बोलता है….इधर देख, वहां क्यों चिल्ला रहा है। इधर आ जहां मेघनाथ बुला रहा है। लक्ष्मण जी कहते हैं चल दुष्ट बड़ चुका, तेरा अधिक जीना भी अच्छा नहीं हैं….। किये है पाप जो अब भोग ले उनकी सजा जाकर। यह कहते ही लक्ष्मण और मेघनाथ में भयंकर युद्ध शुरू हो जाता है। दोनो ओर से बाण ही बाण चलते हैं और मेघनाथ का बाण लगने से लक्ष्मण जी मुर्छित हो जमीन पर गिर पड़ते हैं। मौके पर मौजूद हनुमान जी लक्ष्मण का सिर गोद में रख लेते हैं। लक्ष्मण को मुर्छित देख राम जी बोलते हैं हैं हैं यह क्या, लक्ष्मण को क्या हो गया।

 
#हनुमान जी कहते हैं.महाराज, हमारे भाग्य ने यह र्दुदिन दिखाया है। पापी मेघनाथ ने शक्ति द्वारा लक्ष्मण को बेसुध बनाया है। राम जी व्याकुल होकर लक्ष्मण का सिर अपनी गोद में रखकर बोलते हैं….हैं हैं यह तो मर्म स्थान पर चोट आई है। जिसने सारी काया मृतक शरीर के सामान बनाई है। हाय हाय अब तो सारा संसार खेल ही समाप्त हो गया….। लक्ष्मण को जीवित अवस्था में लाने के वेद बुलाया जाता है, वह बोलता है यदि संजीवनी पर्वत से कोई बूटी लेकर आता है तो उस बूटी के रस से लक्ष्मण को जीवित अवस्था में लाया जा सकता है। तभी हनुमान जी संजीवनी बूटी लेने जाते हैं और पूरा पर्वत ही उठा ले आते हैं। पर्वत का दृश्य क्रेन के माध्यम से हवा में 50 फुट ऊंचा दिखाया गया। जिसे देखने के लिए दर्शकों की भारी भीड़ पंडाल में पहुंची। रामलीला में राम का अभिनय रितेश कुमार, लक्ष्मण का अभिनय अनिल चावला, रावण का अभिनय श्रवण चावला, हनुमान का अभिनय कैलाश चावला, अंगद का अभिनय कशिश चावला, मेघनाथ विजय कुमार कंटा ने निभाया।

 
Have something to say? Post your comment
More Faridabad

सडक़ दुर्घटना में एक गर्भवती महिला की मौत, पति घायल

7 मर्डर व 600 चोरी करने वाला गैंग पकड़ा, हर पाप से पहले करता था 108 बार जाप

जिले के कांग्रेसियों ने गरीब बच्चों के साथ मनाया इंदिरा गांधी का जन्मदिवस

फिर मिली एक नवजात बच्ची, जाने कहां

नवनियुक्त पुलिस आयुक्त ने संभाला पदभार

फरीदाबाद स्वास्थ्य विभाग में आज एक बड़ी कार्रवाई

गंदगी के ढेरों पर सफाई अभियान चलाकर कांग्रेसियों ने दिखाया पर्यावरण मंत्री को स्मार्ट सिटी का आईना

गुरूपूर्व के अवसर पर नगर कीर्तन का आयोजन

तिगांव की 37 वीं वार्षिक खेलकूद प्रतियोगिता का समापन

नेहरू कॉलेज के 250 छात्र छात्राओं का रोल नंबर रुका, विरोध में फूंका शिक्षा मंत्री का पुतला

 
 
 
 
 
 
Copyright © 2017 Star Khabre All rights reserved.
Website Designed by Mozart Infotech