Latest :
जिला उपायुक्त छात्रों को आश्वासन देकर मुकरे, एनएसयूआई ने फूंका पुतलादुखद : पत्नी पर जानलेवा हमला करके झाडिय़ों में फैंकाStar असर : एनआईटी-1 स्थित oyo होटल सील, कई और संस्थान सीलफरीदाबाद के 6 मुक्केबाजों ने हरियाणा ओपन स्टेट बाक्सिंग चैंपियनशिप में लिया भागHappy Eid 2019: बॉलीवुड सेलेब्स ने ट्विट कर दी Eid की बधाईIndia Vs South Africa: क्या बारिश मैच में डालेगी खलल? ऐसा रहेगा मौसम का मिजाजहरियाणा के पूर्व सीएम ओपी चौटाला ने मनोहर लाल खट्टर के कामकाज पर उठाया सवालप्रेमी जोड़े को देख युवक चिल्लाया, इन्हें रोको, फिर हुआ हाई वोल्टेज ड्रामाइजरायल के राष्‍ट्रपति की पत्‍नी का निधनDelhi-Chandigarh Highway पर चलती कार पर गिरी मौत, कट गई गर्दन
Business

रुचि सोया को खरीदने के लिए पतंजलि ने PSB से मांगा कर्ज

May 31, 2019 01:18 PM

Star Khabre, Delhi; 31st May : पतंजलि आयुर्वेद ने रुचि सोयाइंडस्ट्रीज को खरीदने की खातिर कर्ज लेने के लिए सरकारी बैंकों से संपर्क किया है। यह सौदा 4,350 करोड़ रुपये में हो रहा है। सूत्रों ने बताया कि कंपनी पांच साल के लिए कर्ज लेना चाहती है और उसने एसबीआई, पीएनबी, बैंक ऑफ बड़ौदा, यूनियन बैंक और जेऐंडके बैंक से संपर्क साधा है। उन्होंने बताया कि कंपनी 3,700 करोड़ रुपये से अधिक का कर्ज बैंकों से लेना चाहती है और 600 करोड़ रुपये का इंतजाम वह अपने स्तर पर करेगी। 

एक सूत्र ने कहा, 'बैंकों से फंड के लिए बातचीत आखिरी दौर में है और जल्द ही ब्याज दर भी फाइनल हो जाएगी। पतंजलि ने पहले कर्ज के लिए नॉन-बैंकिंग चैनल से संपर्क किया था, लेकिन निवेशकों के अधिक डिस्क्लोजर की मांग करने पर वह पीछे हट गई।' इस खबर के बारे में पूछे गए सवालों के पतंजलि, एसबीआई, बैंक ऑफ बड़ौदा, यूनियन बैंक और जेऐंडके बैंक ने जवाब नहीं दिए। 

पतंजलि ने इनसॉल्वेंसी ऑक्शन में रुचि सोया को खरीदा है, जिस पर 9,300 करोड़ से अधिक का कर्ज है। इसमें से 1,800 करोड़ रुपये का सबसे अधिक एक्सपोजर एसबीआई का है। इसके बाद सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया का एक्सपोजर 816 करोड़ और पीएनबी का 743 करोड़ रुपये है। 
वैसे पिछले साल अगस्त में रुचि सोया के लिए सबसे ऊंची बोली अडानी विल्मर ने लगाई थी। तब पतंजलि के साथ उसका कड़ा मुकाबला हुआ था। हालांकि, दिसंबर 2018 में अडानी विल्मर ने रुचि सोया के रिजॉल्यूशन प्रोफेशनल को लेटर लिखकर कहा था कि इनसॉल्वेंसी प्रोसेस में देरी के चलते कंपनी की संपत्ति प्रभावित हो रही है। अडानी विल्मर के बाहर निकलने के बाद रुचि सोया को खरीदने की रेस में सिर्फ पतंजलि बच गई थी। उसने अप्रैल में बोली 200 करोड़ रुपये बढ़ाकर 4,350 करोड़ रुपये कर दी थी। रुचि सोया को खरीदने के बाद पतंजलि सोयाबीन ऑइल और दूसरे प्रॉडक्ट्स की बड़ी सप्लायर बन जाएगी। माना जा रहा है कि इस डील से पतंजलि को अपनी ग्रोथ तेज बनाए रखने में मदद मिलेगी। 

 

 
Have something to say? Post your comment
More Business
 
 
 
 
 
 
Copyright © 2017 Star Khabre All rights reserved.
Website Designed by Mozart Infotech