Latest :
सोनल गोयल ने किया शाखाओं का औचक निरीक्षण, 6 कर्मचारियों को कारण बताओ नोटिस जारीपार्कों में लगने वाले धौलपुर स्टोन का भूमि पूजन।शेयर बाजार फिर गिरावट की ओर, 250 से ज्यादा अंक लुढ़का सेंसेक्सक्रिकेट के बाद अब कपिल देव शुरू करेंगे नई पारी चैम्पियंस गोल्फ टूर्नामेंट में लेंगे भागपेट्रोलियम डीलर्स एसोसिएशन का आरोप, चंडीगढ़ के डीलर्स अवैध तरीके से कर रहे पेट्रोल की सप्लाईढाई साल की अंजलि को बेल्जियम के परिवार ने लिया गोद, कहा- अब कंप्लीट हुआ परिवारसलमान खान के पीछे-पीछे सेरेमनी में पहुंचा कुत्ता, सोशल मीडिया यूजर्स दे रहे मजेदार रिएक्शनप्रदेश में अलगे दो दिन भारी बारिश का अलर्ट, मौमस विभाग ने जारी किया येलो अलर्टक्लर्क पद की परीक्षा के मद्देनजर धारा- 144 मनोहर लाल ने जो कहा उसे पूरा किया : कृष्ण पाल
National

फैसले के खिलाफ दायर अर्जी पर चीफ जस्टिस बोले- आधे घंटे पढ़ी, समझ नहीं आया कहना क्या चाहते हो

August 16, 2019 01:05 PM

Star Khabre, Faridabad; 16th August : जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाने के फैसले के खिलाफ दायर एक याचिका पर सुप्रीम कोर्ट ने शुक्रवार को सुनवाई करने से इनकार कर दिया। चीफ जस्टिस रंजन गोगोई ने याचिकाकर्ता को फटकार लगाते हुए कहा कि मैंने आधे घंटे याचिका पढ़ी। इसके बावजूद समझ नहीं आया कि आप कहना क्या चाहते हैं। ये किस तरह की याचिका है? यह तो मेंशन के लायक भी नहीं है। 

इस पर सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने कहा, ‘‘सुरक्षा एजेंसियां रोज कश्मीर के हालात की समीक्षा कर रही हैं। हमें जमीनी हकीकत के बारे में पता है।’’ वकील मनोहर लाल शर्मा ने अनुच्छेद 370 हटाए जाने के सरकार के फैसले के अगले दिन ही सुप्रीम कोर्ट में याचिका दाखिल कर मामले पर तुरंत सुनवाई की मांग की थी। हालांकि, कोर्ट ने इससे इनकार कर दिया था।

कश्मीर को लेकर एक अन्य याचिका पर भी होगी सुनवाई

चीफ जस्टिस रंजन गोगोई, जस्टिस एसए बोबड़े और जस्टिस एसए नजीर की विशेष बेंच याचिकाकर्ता वकील एमएल शर्मा के अलावा कश्मीर टाइम्स की एग्जीक्यूटिव एडिटर अनुराधा भसीन की याचिका पर भी सुनवाई करेगी। भसीन ने कश्मीर में मोबाइल इंटरनेट और लैंडलाइन सेवा समेत संचार के सभी माध्यम दोबारा बहाल करने की अपील की है, ताकि मीडिया राज्य में सही तरह से अपना काम कर सके। 

जम्मू-कश्मीर से प्रतिबंध पर फैसले को टाल चुका है सुप्रीम कोर्ट

इससे पहले सुप्रीम कोर्ट ने मंगलवार को कांग्रेस नेता तहसीन पूनावाला की याचिका पर सुनवाई की थी। पूनावाला ने भी जम्मू-कश्मीर से कर्फ्यू हटाने, फोन-इंटरनेट और न्यूज चैनल पर लगे प्रतिबंध हटाने की भी मांग की थी। सुप्रीम कोर्ट ने सुनवाई के दौरान सरकार से पूछा कि राज्य में प्रतिबंध कब तक जारी रहेंगे? सरकार ने कहा कि वहां हालात बेहद संवेदनशील हैं और प्रतिबंध सभी के हित में हैं। सुप्रीम कोर्ट ने जम्मू-कश्मीर में प्रतिबंध हटाने के बारे में तत्काल कोई भी आदेश देने से इनकार कर दिया।

सरकार ने कोर्ट से कहा था कि हम राज्य के हालात की हर दिन समीक्षा कर रहे हैं। वहां खून की एक भी बूंद नहीं गिरी, किसी की जान नहीं गई। इसके बाद सुप्रीम कोर्ट ने सुनवाई दो हफ्ते के लिए यह कहते हुए टाल दी कि हम देखते हैं वहां क्या होता है? केंद्र ने सुप्रीम कोर्ट से कहा- 2016 में इसी तरह की स्थिति को सामान्य होने में 3 महीने का समय लगा था। सरकार की कोशिश है कि जल्द से जल्द स्थिति पर काबू पाया जा सके।  

 
Have something to say? Post your comment
More National

प्रदेश में अलगे दो दिन भारी बारिश का अलर्ट, मौमस विभाग ने जारी किया येलो अलर्ट

पीड़िता बोली- बच्चों की तरह बीमारी का बहाना बना रहे चिन्मयानंद, एसआईटी पर भरोसा नहीं रहा

आवास बोर्ड की जमीन-मकान के लीजधारी अब बनेंगे मालिक, अवैध छोटे निर्माण भी हो जाएंगे वैध

कोटा-झालावाड़ में बाढ़ से हालात, मुख्यमंत्री प्रभावित इलाकों का हवाई सर्वे करेंगे

80% फसलें बर्बाद लेकिन सर्वे में बरती जा रही लापरवाही, नुकसान का आकलन करने के लिए नहीं गई टीम

मुठभेड़ में दो इनामी नक्सली ढेर सुबह जनअदालत में नक्सलियों ने ग्रामीण को मुखबिरी के शक में मार डाला

बादाम के 250 पौधे खाने पर पुलिस ने दो बकरियों को पकड़ा

आफत बनी बारिश, अधिकांश बांधों के गेट खुले, नदी-नाले उफान पर, सागर में बिजली गिरने से 28 गायों की मौत

कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष को लेकर अटकलें तेज, नहीं हो पाई सिंधिया की सोनिया गांधी से मुलाकात

कलेक्टर को हटाने के लिए पांचों विधायकों ने सीएम को लिखा पत्र, समस्याओं का समाधान नहीं करने का आरोप

 
 
 
 
 
 
Copyright © 2017 Star Khabre All rights reserved.
Website Designed by Mozart Infotech