Latest :
सचिन तेंदुलकर के नाम जुड़ा एक और रिकॉर्ड, वर्ल्ड कप की जीत का वो पल बन गया सबसे यादगार'बिग बॉस 13' विनर सिद्धार्थ शुक्ला पर प्रिंस नरूला ने साधा निशाना, सलमान खान को भी नहीं बख्शादुनिया के सबसे अमीर शख्स जेफ बेजोस जलवायु परिवर्तन पर खर्च करेंगे 71 हजार करोड़ रुपयेशाहीन बाग: वकीलों की बात मानेंगे प्रदर्शनकारी? संजय हेगड़े से मिलने पहुंचे अन्य वार्ताकारटोल पर टॉयलेट गई महिला को चाकू की नोंक पर किया अगवा, रेप कर फरार हुए आरोपीराेज फेस्ट में शहरवासी 1700 रु. में हेलीकॉप्टर में 7 से 10 मिनट की उड़ान का आनंद लेंगेSA vs ENG T20 Series: तीसरे टी20 इंटरनेशनल मैच में इयोन मोर्गन ने जड़ी तेज तर्रार फिफ्टी, अपने ही रिकॉर्ड की बराबरी कीकोरोना का असर: पेट्रोल हो सकता है 4 रुपये तक सस्ता, पिछले एक महीने में 20 फीसद गिरा कच्चा तेलगोवंश से भरी पिकअप अनियंत्रित होकर मंदिर में घुसी, 4 गोवंश की मौत; 2 गौ तस्कर घायलफाइटर पायलट के रूप में नजर आईं कंगना रनोट, इंडियन एयरफोर्स की बहादुर महिलाओं की कहानी होगी 'तेजस'
National

फैसले के खिलाफ दायर अर्जी पर चीफ जस्टिस बोले- आधे घंटे पढ़ी, समझ नहीं आया कहना क्या चाहते हो

August 16, 2019 01:05 PM

Star Khabre, Faridabad; 16th August : जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाने के फैसले के खिलाफ दायर एक याचिका पर सुप्रीम कोर्ट ने शुक्रवार को सुनवाई करने से इनकार कर दिया। चीफ जस्टिस रंजन गोगोई ने याचिकाकर्ता को फटकार लगाते हुए कहा कि मैंने आधे घंटे याचिका पढ़ी। इसके बावजूद समझ नहीं आया कि आप कहना क्या चाहते हैं। ये किस तरह की याचिका है? यह तो मेंशन के लायक भी नहीं है। 

इस पर सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने कहा, ‘‘सुरक्षा एजेंसियां रोज कश्मीर के हालात की समीक्षा कर रही हैं। हमें जमीनी हकीकत के बारे में पता है।’’ वकील मनोहर लाल शर्मा ने अनुच्छेद 370 हटाए जाने के सरकार के फैसले के अगले दिन ही सुप्रीम कोर्ट में याचिका दाखिल कर मामले पर तुरंत सुनवाई की मांग की थी। हालांकि, कोर्ट ने इससे इनकार कर दिया था।

कश्मीर को लेकर एक अन्य याचिका पर भी होगी सुनवाई

चीफ जस्टिस रंजन गोगोई, जस्टिस एसए बोबड़े और जस्टिस एसए नजीर की विशेष बेंच याचिकाकर्ता वकील एमएल शर्मा के अलावा कश्मीर टाइम्स की एग्जीक्यूटिव एडिटर अनुराधा भसीन की याचिका पर भी सुनवाई करेगी। भसीन ने कश्मीर में मोबाइल इंटरनेट और लैंडलाइन सेवा समेत संचार के सभी माध्यम दोबारा बहाल करने की अपील की है, ताकि मीडिया राज्य में सही तरह से अपना काम कर सके। 

जम्मू-कश्मीर से प्रतिबंध पर फैसले को टाल चुका है सुप्रीम कोर्ट

इससे पहले सुप्रीम कोर्ट ने मंगलवार को कांग्रेस नेता तहसीन पूनावाला की याचिका पर सुनवाई की थी। पूनावाला ने भी जम्मू-कश्मीर से कर्फ्यू हटाने, फोन-इंटरनेट और न्यूज चैनल पर लगे प्रतिबंध हटाने की भी मांग की थी। सुप्रीम कोर्ट ने सुनवाई के दौरान सरकार से पूछा कि राज्य में प्रतिबंध कब तक जारी रहेंगे? सरकार ने कहा कि वहां हालात बेहद संवेदनशील हैं और प्रतिबंध सभी के हित में हैं। सुप्रीम कोर्ट ने जम्मू-कश्मीर में प्रतिबंध हटाने के बारे में तत्काल कोई भी आदेश देने से इनकार कर दिया।

सरकार ने कोर्ट से कहा था कि हम राज्य के हालात की हर दिन समीक्षा कर रहे हैं। वहां खून की एक भी बूंद नहीं गिरी, किसी की जान नहीं गई। इसके बाद सुप्रीम कोर्ट ने सुनवाई दो हफ्ते के लिए यह कहते हुए टाल दी कि हम देखते हैं वहां क्या होता है? केंद्र ने सुप्रीम कोर्ट से कहा- 2016 में इसी तरह की स्थिति को सामान्य होने में 3 महीने का समय लगा था। सरकार की कोशिश है कि जल्द से जल्द स्थिति पर काबू पाया जा सके।  

 
Have something to say? Post your comment
More National

शाहीन बाग: वकीलों की बात मानेंगे प्रदर्शनकारी? संजय हेगड़े से मिलने पहुंचे अन्य वार्ताकार

गोवंश से भरी पिकअप अनियंत्रित होकर मंदिर में घुसी, 4 गोवंश की मौत; 2 गौ तस्कर घायल

जामिया कॉर्डिनेशन कमेटी ने जारी किया वीडियो, लाइब्रेरी में छात्रों पर दिल्ली पुलिस ने बरसाए डंडे

कवि कुमार विश्वास की फॉर्च्यूनर कार ले उड़े चोर, घर के बाहर खड़ी थी

गार्गी कॉलेज मामला: सीबीआई जांच की मांग करने वाली याचिका पर 17 फरवरी हो हाइकोर्ट में सुनवाई

दिल्ली दरबारः नेता प्रतिपक्ष पद के लिए भाजपा में जोर-आजमाइश शुरू

कानपुरः गंगा नदी में स्नान करने पर हो रही है खुजली, लेकिन प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड ने कहा स्थिति बेहतर

गार्गी कॉलेजः छात्राएं बोलीं- नशे में धुत थे लोग, पुलिसकर्मी देखते रहे तमाशा

दिल्ली चुनावः कल सुबह आठ बजे शुरू हो जाएगी वोटों की गिनती, 27 मतगणना केंद्रों पर कड़ी सुरक्षा

दिल्लीः फेसबुक पर दोस्ती कर विदेशी महिला ने ज्योतिष से ठगे 61 हजार

 
 
 
 
 
 
Copyright © 2017 Star Khabre All rights reserved.
Website Designed by Mozart Infotech