Latest :
भोले-भाले लोगों को ठगने वाले एक शातिर गिरोह का खुलासाफरीदाबाद पुलिस ने जनहित में साईबर फ्रॉड से बचने के लिए जारी की एडवाइजरी COVID-19 के खतरे को शिक्षा के नए मॉडल में बदलने पर चर्चाफाइनल ईयर के छात्रों की परीक्षा कराने का फैसला छात्र विरोधी, जल्द वापिस ले भाजपा सरकार : कृष्ण अत्रीNSUI ने किया ऑनलाइन एडमिशन पोर्टल लांचUGC को परीक्षा पर पुनर्विचार करने का निर्देश, NSUI का मिला समर्थनचंडीगढ़ हाई कोर्ट पहुंचा हरियाणा परीक्षा परिणाम का मसलाCoca Cola अगले 30 दिन तक सोशल मीडिया पर नहीं देगी विज्ञापन, जानें क्या है इस फैसले की वजहइंग्लैंड जा रही पाकिस्तान की टीम, कब खेले जाएंगे मुकाबले पता नहीं, कोई कार्यक्रम नहीं हुआ जारीसिंगर ने कहा- एकता ने सुशांत को ब्रेक दिया था, उन्हें टार्गेट कैसे किया जा सकता है?
Haryana

हुड्डा शासन काल में लोकसम्पर्क विभाग में 89 करोड़ रूपये का फर्जीवाड़ा उजागर

November 12, 2019 05:52 PM

Star Khabre, Faridabad; 12th November : महालेखाकार (ऑडिट) की जॉंच रिपोर्ट में वर्ष 2013 में हुड्डा शासन काल में लोकसम्पर्क विभाग के 89 करोड़ रूपये की वित्तीय अनियमिताएं व फर्जीवाड़ा सामने आया है। लोकायुक्त ने अपनी जांच में तत्कालीन सीएम भूपेन्द्र सिंह हुड्डा को क्लीन चिट दी है। लेकिन लोकसम्पर्क विभाग के तत्कालीन महानिदेशक सुधीर राजपाल के विरूद्ध गंभीर टिप्पणी की है। लोकायुक्त ने अपने आदेशों में सरकार से विज्ञापनों पर धन खर्चने की पारदर्शी व स्पष्ट निति बनाने की सिफारिश की

लोकायुक्त जस्टिस एन के अग्रवाल ने सरकारी विज्ञापनों पर धन खर्च करने बारे पारदर्शी व स्पष्ट पद्धति तय करने की सरकार को सिफारिश करते हुए तीन माह में रिपोर्ट तलब की है। लोकायुक्त ने अपने 22 अक्तुबर के आदेश में  कहा कि  घपले की रिपोर्ट कैग के माध्यम से राज्यपाल को जाने के उपरांत विधानसभा के पटल पर प्रस्तुत होगी। लोकसम्पर्क विभाग के स्पष्टीकरण से संतुष्ट न होने की स्थिति में ही सरकार द्वारा उचित कारवाई हो सकती है। 

क्या है मामला

आरटीआई एक्टिविस्ट पीपी कपूर ने वर्ष 2013 में भूपेन्द्र सिंह हुड्डा सरकार के दौरान नम्बर वन हरियाणा व सबसे आगे हरियाणा के विज्ञापनों में पूंजी निवेश व रोजगार के दिए आंकड़ो को निराधार बताते हुए लोकायुक्त को दिनांक 26 सितम्बर 2013 को शिकायत की थी। आरोप लगाया था कि इन विज्ञापनों में दिए गए आंकड़े फर्जी हैं। इन भ्रामक विज्ञापनों पर सार्वजनिक धन का करोड़ों रूपया फूंक कर तत्कालीन सीएम हुड्डा अपनी छवि चमका रहे हैं। कपूर ने इनके विरूद्ध आपराधिक केस दर्ज कराने की मांग की थी। 

लोकायुक्त जांच में पाया गया विज्ञापनों में किए गए पूंजी निवेश व रोजगार देने के भारी भरकम आंकड़ों के बारे में लोकसम्पर्क अधिकारी कोई लिखित आधार पेश नहीं कर पाए।

लोकायुक्त ने महालेखाकार प्रिंसिपल अकाउंट जनरल (ऑडिट) हरियाणा को कपूर की शिकायत भेजकर रिपोर्ट तलब कर पूछा था कि लोकसम्पर्क विभाग ने जो खर्च किया है वह नियमानुसार है या नहीं। लोकायुक्त ने महालेखाकार से रिपोर्ट मिलने पर महानिदेशक लोकसम्पर्क विभाग हरियाणा से इस रिपोर्ट पर जवाब तलब किया गया। इसके साथ ही लोकसम्पर्क विभाग से इन विज्ञापनों की फाइल नोटिंग मांगी गई तो विभाग ने बताया कि मूल रिकार्ड नष्ट कर दिया गया। हालांकि शपथ पत्र सहित छाया प्रति पेश कर दी। इसके पश्चात 7 जून 2019 को लोकायुक्त को दी अपनी नवीनतम रिपोर्ट में पाया कि तत्कालीन मुख्यमंत्री भूपेन्द्र सिंह हुड्डा ने अपने अधिकार व प्राप्त शक्तियों के तहत ही विज्ञापन प्रकाशित कराने के आदेश दिए थे। अत: तत्कालीन सीएम हुड्डा के विरूद्ध कारवाई नहीं बनती। लेकिन लोकसम्पर्क विभाग के अधिकारियों से यह अपेक्षा नहीं बनती कि वे विज्ञापन प्रकाशित कराने की निर्धारित सामान्य प्रक्रिया को नजरअंदाज करके विज्ञापन प्रकाशित कराये। तत्कालीन महानिदेशक लोकसम्पर्क सुधीर राजपाल को यह सुनिश्चित करना था कि विज्ञापनों पर खर्च निर्धारित मापदंडो के अनुरूप है। लोकायुक्त रजिस्ट्रार ने लोकायुक्त को अपनी रिपोर्ट में सूचित किया कि ऑडिटर जनरल के संदेहों का स्पष्टीकरण लोकसम्पर्क विभाग ने दे दिया है। लेकिन इस स्पष्टीकरण को प्रिंसिपल ऑडिटर जनरल द्वारा स्वीकार करने का कोई प्रमाण नहीं दिया है। ऑडिटर जनरल की इस ऑडिट रिपोर्ट के आधार पर लोकसम्पर्क विभाग के तत्कालीन महानिदेशक सुधीर राजपाल व अन्य दोषी अधिकारियों के खिलाफ कारवाई की अनुशंसा की जानी चाहिए। लोकायुक्त जस्टिस एन0के0 अग्रवाल ने पूरे केस की सुनवाई उपरांत 22 अक्टूबर को इस केस का फैसला किया। लोकायुक्त जस्टिस एनके अग्रवाल ने इस फैसले में लिखा कि तत्कालीन मुख्यमंत्री भूपेन्द्र सिंह हुड्डा द्वारा लिए गए नीतिगत निर्णय के सही व प्रभावी क्रियान्वन ना किए जाने के अधार पर तत्कालीन सीएम हुड्डा या लोकसम्पर्क विभाग को ड्यूटी से लापरवाही का दोषी नहीं ठहराया जा सकता। 

सरकारी नीतियों के क्रियान्वन के दौरान विज्ञापनों के प्रकाशन के लिए पारदर्शी प्रक्रिया हर प्रकार के संदेहों के उन्मूलन के लिए आवश्यक है। लोकायुक्त ने सरकारी विज्ञापनों के प्रकाशन पर धन खर्च करने बारे स्पष्ट व पारदर्शी पद्धति तय करने की सिफारिश करते हुए की गई कारवाई रिपोर्ट तीन माह मे हरियाणा सरकार से तलब की है। 

महालेखाकार (ऑडिट) हरियाणा ने यह धांधलियां बताई:

1. गैर सूचिबद्ध समाचार पत्रों को 8,76,00000/- रूपये के विज्ञापन

2. 14 गैर सूचिबद्ध समाचारपत्रों में विज्ञापन से 20.52 लाख रूपये का नुकसान

3. हरियाणा विज्ञापन नीति/नियम एवं दिशा निर्देश-2007 व वित्तीय नियमावली की उल्लंघना करके 2.35 करोड़ रूपये खर्च किए।

4. संवाद सोसाइटी के गठन पर 14.07 करोड़ रूपये खर्च करके व्यर्थ किए जबकि यह कार्य विभाग की उत्पादन एवं कला शाखा द्वारा किया जा रहा था।

5. मीडिया सलाहकारों की नियुक्ति करके 1.88 करोड़ रूपये व्यर्थ किए।

6. छह वातानुकूलित कारें होने के बावजूद वातानुकूलित टैक्सी के किराए पर 26.68 लाख रूपये व्यर्थ किए।

7.  सरकारी वाहनों से शनिवार व रविवार छुट्टी के दिन सैर सपाटे व यात्राएं करके 20 लाख रूपये फालतू खर्च किए।

8. अनाधिकृत अधिकारियों को कारें अलॉट करके 1.67 लाख रूपये का नुकसान।

9.  एक ही अधिकारी को दो अलग-अलग कारें अलॉट कर दी।

10. पत्रकारों को तोहफे बांटने में 87 लाख रूपये का अवैध खर्च।

11. पत्रकारों को सरकारी आवास देकर सरकार को 30 करोड़ 45 लाख रूपये की चपत। लाइसेंस शुल्क भी नहीं वसूल किया। 

12. स्टेट अवार्डस पर 14.06 लाख रूपये का फालतू खर्च।

13. अनाधिकृत अधिकारियों/कर्मचारियों को 20.11 करोड़ रूपये आवासीय भत्ता का भुगतान।

14.  हरियाणा कला परिषद् के स्टाफ के वेतन में 6.90 करोड़ रूपये का अवैध भुगतान।

15.  2.96 करोड़ रूपये सीसीटीवी कैमरों की खरीद पर व्यर्थ किए, कैमरे लगाए ही नहीं।

16. स्टाफ की अनियमित समावेश।

17. हरियाणा कला परिषद् के विज्ञापनों पर 1.04 लाख रूपये का नुकसान। पेमेंट 15 प्रतिशत डिस्काउंट के बाद भुगतान करना था। डिस्काउंट नहीं किया।

18. किताबें जारी करने में धांधली, कई किताबें वापिस नहीं मिली।

19. सरकारी खातों से बाहर ग्रान्ट रखी गई।

20. 0.28 लाख रूपये का फालतू भुगतान।

 

 
Have something to say? Post your comment
More Haryana

हरियाणा के कृषि मंत्री जेपी दलाल पहुंचे रेवाड़ी, टिड्डी दल से फसल के नुकसान का लिया जायजा

सोनीपत के एक्सप्रेस-वे पर भारतीय वायु सेना के हेलीकॉप्टर की इमरजेंसी लैंडिंग

Rohtak PGI के CMO छह माह के लिए सस्‍पेंड, पूर्व उपराज्यपाल के इलाज में लापरवाही पर गाज गिरी

मुख्य आरोपित जसवीर सिंह रोहतक से गिरफ्तार, SIT को मिली बड़ी कामयाबी

हाईकोर्ट ने कहा- तीन महीने की फीस नहीं मिलने पर स्कूल नहीं चला पाएंगे, ऐसी दलील देने वाले स्कूलों को बंद ही कर देना चाहिए

हरियाणा में 429 और कोरोना मरीज ठीक हुए, 412 नए मरीज, 11 की और की मौत

प्रदेश में 547 नए केस मिले, नौ की मौत, एंटीजन डिटेक्शन टेस्ट होंगे शुरू, 30 मिनट में आएगा रिजल्ट

दिल्ली से लगते हरियाणा के तीन जिलों में कोरोना मरीजों के लिए बढ़ेगी बेड संख्या

लगातार दूसरे दिन 500 से ऊपर केस; 11 मौतें, सूर्य ग्रहण पर कुरुक्षेत्र में 19 से 21 तक कर्फ्यू

सेंध से पहले इनेलो के बसपा से रहे पुराने रिश्ते, हरियाणा में दोनों की दोस्‍ती ने खिलाए थे कई गुल

 
 
 
 
 
 
Copyright © 2017 Star Khabre All rights reserved.
Website Designed by Mozart Infotech