Latest :
जेवर एयरपोर्ट के लिए काटे जाएंगे 6000 पेड़वर्ल्ड टूर के पहले दौर में ही हारीं पीवी सिंधु, जापान की यामागुची ने 68 मिनट में जीता मैचहाईकोर्ट ने निपटाई सपना चौधरी के खिलाफ दर्ज एफआईआर रद्द करने की याचिका, जानें मामलाराहुल द्रविड़ की फैन हैं दीपिका पादुकोण, कहा- वो मेरे ऑल टाइम फेवरेट क्रिकेटर हैंजेल में बंद गैंगस्टर जग्गू ने कहा- मेरा एनकाउंटर कर देगी पुलिस अमृतसर जेल में करा दें शिफ्टसेंसेक्स में 149 अंक की तेजी, निफ्टी 42 प्वाइंट चढ़कर 11950 के ऊपर पहुंचाNSUI के राष्ट्रीय अध्यक्ष नीरज कुंदन और छात्रों पर लाठीचार्ज करना निंदनीय :- कृष्ण अत्रीलखनऊः सुबह चार बजे विधानसभा घेरने पहुंचे किसान, पानी की बौछारों से किया तितर-बितर, कई हिरासत मेंफास्टैग अनिवार्यता पर रोक से हाईकोर्ट का इनकार, कहा- मुश्किल होना रोक लगाने का आधार नहींबढ़त के साथ खुला बााजार, डॉलर के मुकाबले 70.89 के स्तर पर हुई रुपये की शुरुआत
Sports

चैंपियन विराट कोहली को भी लगता है नाकामियों का डर, विरासत छोड़ना चाहते हैं

November 29, 2019 10:56 AM

Star khabre, Faridabad ; 29th November : भारतीय कप्तान विराट कोहली ने अपने करियर में ज्यादा नाकामियां और उतार-चढ़ाव नहीं देखे हैं, लेकिन उनका कहना है कि ऐसा नहीं है कि वह इनसे प्रभावित नहीं होते। इसका हालिया उदाहरण भारत का इंग्लैंड में वनडे वर्ल्ड कप सेमीफाइनल मैच में हारना रहा जिसमें टीम को न्यू जीलैंड ने 18 रन से शिकस्त दी।

विराट की कप्तानी में टीम इंडिया भले ही वर्ल्ड कप नहीं जीत पाई लेकिन लगातार अच्छा प्रदर्शन कर रही है। हाल में उसने टेस्ट में भी वेस्ट इंडीज, साउथ अफ्रीका और बांग्लादेश को मात दी।

नाकामी से होते हैं प्रभावित

कोहली ने एक पत्रिका के साथ इंटरव्यू में कहा, ‘क्या मैं नाकामियों से प्रभावित होता हूं.. हां, होता हूं। हर कोई होता है। अंत में मैं एक बात जानता हूं कि टीम को मेरी जरूरत है। वर्ल्ड कप के सेमीफाइनल में मुझे लग रहा था कि मैं नॉटआउट लौटूंगा और अपनी टीम को इस मुश्किल दौर से निकाल कर लाऊंगा लेकिन हो सकता है कि वह मेरा अहंभाव हो क्योंकि आप भविष्यवाणी कैसे कर सकते हैं। आपके अंदर सिर्फ मजबूत अहसास हो सकते हैं या फिर इस तरह का कुछ करने की प्रबल इच्छाशक्ति।’

छोड़ना चाहते हैं विरासत

वनडे और टेस्ट क्रिकेट में क्रमश: 11,500 और 7,202 रन बनाने वाले कोहली अपने पीछे एक विरासत छोड़ना चाहते हैं, जिसका अनुसरण आने वाले लोग करें। उन्होंने कहा, ‘मुझे हारना पसंद नहीं है। मैं बाहर आकर यह नहीं कहना चाहता कि मैं ऐसा कर सकता था। हम उस तरह की विरासत छोड़ना चाहते हैं कि आने वाले क्रिकेटर कहें कि हमें इस तरह से खेलना है।’

मैदान पर देना चाहता हूं सब

विराट ने कहा, 'जब मैं मैदान पर कदम रखता हूं तो यह मेरे लिए खुशकिस्मती की बात होती है। जब मैं अपने खेल के बाद बाहर आता हूं तो मैं पूरी तरह थका हुआ होना चाहता हूं।'

 

 
Have something to say? Post your comment
More Sports

वर्ल्ड टूर के पहले दौर में ही हारीं पीवी सिंधु, जापान की यामागुची ने 68 मिनट में जीता मैच

श्रीलंका के कप्तान ने कहा- मिकी ऑर्थर का साथ होना फायदेमंद, उन्हें पाकिस्तान टीम की गहरी जानकारी

टॉप 3 बल्लेबाजों के भरोसे कब तक जीत का ख्वाब देखती रहेगी टीम इंडिया

विराट ने लपका शानदार कैच, मैच के बाद बोले- हाथ में फंस गई थी बॉल

टीम की जीत के लिए मुश्किल चुनौती का हिस्सा बनना चाहूंगा-दिनेश कार्तिक

India vs West Indies: विराट कोहली 12वीं बार बने मैन ऑफ द मैच, वर्ल्ड रेकॉर्ड बराबर

भारत-वेस्टइंडीज शृंखला में फ्रंट फुट नो बॉल का फैसला थर्ड अंपायर करेगा

सऊदी अरब में बन रही है दुनिया की पहली स्पोर्ट्स सिटी; यहां इस्लामिक कानून नहीं, पश्चिम जैसी आजादी

Ind vs WI T20 Series: कीरन पोलार्ड ने बताया भारत के खिलाफ क्या होगी कैरेबियाई टीम की रणनीति

दूध बेचकर बेटे को क्रिकेटर बनाने वाले पिता ने कहा- प्रियम खिताब जीतेगा तो सीना चौड़ा होगा

 
 
 
 
 
 
Copyright © 2017 Star Khabre All rights reserved.
Website Designed by Mozart Infotech