Latest :
जेवर एयरपोर्ट के लिए काटे जाएंगे 6000 पेड़वर्ल्ड टूर के पहले दौर में ही हारीं पीवी सिंधु, जापान की यामागुची ने 68 मिनट में जीता मैचहाईकोर्ट ने निपटाई सपना चौधरी के खिलाफ दर्ज एफआईआर रद्द करने की याचिका, जानें मामलाराहुल द्रविड़ की फैन हैं दीपिका पादुकोण, कहा- वो मेरे ऑल टाइम फेवरेट क्रिकेटर हैंजेल में बंद गैंगस्टर जग्गू ने कहा- मेरा एनकाउंटर कर देगी पुलिस अमृतसर जेल में करा दें शिफ्टसेंसेक्स में 149 अंक की तेजी, निफ्टी 42 प्वाइंट चढ़कर 11950 के ऊपर पहुंचाNSUI के राष्ट्रीय अध्यक्ष नीरज कुंदन और छात्रों पर लाठीचार्ज करना निंदनीय :- कृष्ण अत्रीलखनऊः सुबह चार बजे विधानसभा घेरने पहुंचे किसान, पानी की बौछारों से किया तितर-बितर, कई हिरासत मेंफास्टैग अनिवार्यता पर रोक से हाईकोर्ट का इनकार, कहा- मुश्किल होना रोक लगाने का आधार नहींबढ़त के साथ खुला बााजार, डॉलर के मुकाबले 70.89 के स्तर पर हुई रुपये की शुरुआत
Business

जीडीपी की सुस्त रफ्तार: क्या होगा आप पर असर और आगे कैसे रहेंगे हालात?

November 30, 2019 10:37 AM

Star Khabre, Faridabad; 30th November : भारत के आर्थिक विकास की रफ्तार 2013 के बाद सबसे धीमी हो गई है। पिछले 18 महीने के दौरान देश की विकास दर लगातार गिर रही है। भारत ने दुनिया की सबसे तेजी से बढ़ती इकॉनमी होने का ताज भी चीन के हाथों गंवा दिया है। शुक्रवार को जारी आंकड़ों के अनुसार विनिर्माण क्षेत्र में उत्पादन घटने और निजी निवेश कमजोर होने से आर्थिक वृद्धि दर चालू वित्त वर्ष की दूसरी तिमाही में घटकर 4.5 प्रतिशत पर आ गई। यह आर्थिक वृद्धि का छह साल का न्यूनतम आंकड़ा है। ऐसे में आइए जानते हैं कुछ जरूरी सवालों के जवाब.. सरकारी डेटा बताता है कि कंज्यूमर्स के बीच डिमांड कम हो रही है। फिलहाल इकॉनमी की जान सरकारी खर्च में बढ़ोतरी पर टिकी है। जानकार मानते हैं कि इकॉनमी के ये हालात और एक-दो साल तक खिंच सकते हैं।

 क्या कर रही सरकार?

मोदी सरकार ने हाल में विदेशी निवेशकों से सरचार्ज हटाया। कॉर्पोरेट टैक्स में कटौती की गई। संकटग्रस्त रीयल एस्टेट और नॉन बैंकिंग फाइनैंशल कंपनियों के लिए भी काम चल रहा है। लेकिन फायदा दिखना बाकी है

क्या उपाय है?

बाजार में डिमांड बढ़े, इसके लिए रिजर्व बैंक अगले हफ्ते फिर ब्याज दरें घटा सकता है। रिजर्व बैंक पहले भी यह उपाय कर चुका है, लेकिन डूबे कर्जों में फंसे बैंक पर्याप्त कमी नहीं कर रहे हैं। बड़े आर्थिक सुधारों की भी जरूरत समझी जा रही है।

आप क्या करें?

आर्थिक विकास दर गिरती रही तो नौकरियों का संकट होगा, प्रति व्यक्ति आय घटेगी। जानकार मानते हैं कि इन हालात में गैरजरूरी खर्चों से बचना चाहिए, ताकि आने वाले मुश्किल दिनों का सामना किया जा सके।

 
Have something to say? Post your comment
More Business

सेंसेक्स में 149 अंक की तेजी, निफ्टी 42 प्वाइंट चढ़कर 11950 के ऊपर पहुंचा

बढ़त के साथ खुला बााजार, डॉलर के मुकाबले 70.89 के स्तर पर हुई रुपये की शुरुआत

ह्युंडई की कारें जनवरी से महंगी होंगी, कंपनी ने कहा- लागत बढ़ने की वजह से फैसला लिया

ज्यादा टेकहोम सैलरी के लिए PF कंट्रीब्यूशन घटाने का मिलेगा ऑप्शन, नए बिल में कई बड़े बदलाव

बकाये भुगतान पर लाभ में रहेगी एयरटेल, वोडाफोन आइडिया को होगा नुकसान

TCS की बड़ी पहल, LGBT कर्मियों के पार्टनर्स को भी देने लगी इंश्योरेंस पॉलिसी, लिंग परिवर्तन के लिए भी 2 लाख रुपये

सप्ताह के आखिरी कारोबारी दिन बाजार में बढ़त, 12,000 के ऊपर निफ्टी

आरबीआई आज ब्याज दरों का ऐलान करेगा, रेपो रेट में फिर से 0.25% कटौती की उम्मीद

गूगल की मूल कंपनी अल्फाबेट के सीईओ बने सुंदर पिचाई

पेट्रोल-डीजल की बढ़ती कीमतों से आज राहत, जानें क्या रहा भाव?

 
 
 
 
 
 
Copyright © 2017 Star Khabre All rights reserved.
Website Designed by Mozart Infotech