Latest :
Corona virus : सुप्रीम कोर्ट का आदेश, 7 साल तक सजा पाए कैदियों को मिल सकती है पेरोलतमिल एक्टर और डायरेक्टर विसू का 74 की उम्र में निधन, लंबे समय से थे बीमारसेंसेक्स में 10फीसदी गिरावट की वजह से लोअर सर्किट लगा, 45 मिनट के लिए रुकी ट्रेडिंग, 10 दिन में दूसरी बारपूर्व कीवी कोच ने मुंबई की खाली सड़कें देख जताई हैरानी, पीएम मोदी बोले- जनता तैयार हैजनता कर्फ्यू के दिन भी शाहजमाल धरना जारी, महिलाएं नहीं मानींचंडीगढ़ में रविवार को एक ही पाॅजिटिव केस आया, 15 की रिपोर्ट नेगेटिवदो कैंसर पीड़िताें का बीमा कराया, दोनों की मौत के बाद फर्जी रिपोर्ट दिखाकर लिया 98 लाख का क्लेमनिर्भया के दोषियों को फांसी देकर उच्चतम न्यायालय ने किया न्याय : कृष्ण अत्रीकैसे तय समय पर होंगे ओलंपिक जब ज्यादातर क्वालिफाइंग टूर्नामेंट हो चुके हैं रद्दसेंसेक्स में 500 अंकों से ज्यादा की तेजी, निफ्टी 8,200 के स्तर से ऊपर
Faridabad

Corona virus : सुप्रीम कोर्ट का आदेश, 7 साल तक सजा पाए कैदियों को मिल सकती है पेरोल

March 23, 2020 02:36 PM

Star Khabre, Faridabad; 23rd March : सुप्रीम कोर्ट में इस बात को लेकर सुनवाई हुई कि भीड़-भाड़ वाली जेलों में कोरोना वायरस फैलने से कैसे रोका जाए। इसे लेकर सुप्रीम कोर्ट ने आदेश दिया है कि जिन कैदियों को किसी मामले में 7 साल या उससे कम की सजा दी गई है और वह जेल में बंद हैं, तो उन्हें पेरोल या अंतरिम जमानत दी जा सकती है। सुप्रीम कोर्ट ने ये फैसला इसलिए सुनाया है, ताकि जेलों में भीड़-भाड़ को कम किया जा सके।
इतना ही नहीं, सु्प्रीम कोर्ट ने सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को आदेश दिया है कि एक हाई लेवल कमेटी बनाई जाए। यह कमेटी ही तय करेगी कि किन कैदियों को पेरोल दी जा सकती है और किसे नहीं। यानी ये कमेटी कैदियों की कैटेगरी बनाएंगे और उनके अपराध और व्यवहार के आधार पर ये तय करेंगे कि किसे-किसे अंतरिम जमानत या पेरोल दी जा सकती है। इस कमेटी में कानून सचिव और स्टेट लीगल सर्विस अथॉरिटी के चेयरमैन भी होंगे।

 

 
Have something to say? Post your comment
More Faridabad

निर्भया के दोषियों को फांसी देकर उच्चतम न्यायालय ने किया न्याय : कृष्ण अत्री

फ्रॉड कॉल कर, विदेशों से ठगी करने वाले दो युवकों को पुलिस ने उठाया

मोदी राज में कच्चे तेल की कीमतों में गिरावट के बावजूद जनता को फायदा नही : कृष्ण अत्री

मुख्यमंत्री ने दिए मुख्यमंत्री घोषणा के कार्यों पर रोक लगाने के आदेश, जाने क्यों

नई आबकारी नीति का विरोध करते हुए एनएसयूआई ने फूंका मुख्यमंत्री खट्टर का पुतला

एचएसवीपी व निगम अधिकारियों की लापरवाही या मिलीभगत, ज्वार्इंट कमिश्नर प्रशांत अटकान नहीं दे रहे जबाव

सूरजकुंड मेला : स्वर लहरियों ने तान छेड़ी, कलाकारों के पांव थिरक उठे

युवा महिला उद्यमी ने दो साल में इंटरनेशनल स्तर पर स्थापित की कंपनी

OYO HOTEL: निगम व एचएसवीपी नहीं दे रहा ध्यान, कर रहा बड़े हादसे का इंतजार

अपनी प्रशासनिक क्षमता के कारण धनेश अद्लक्खा बने फार्मेसी काउंसिल ऑफ इंडिया के सदस्य

 
 
 
 
 
 
Copyright © 2017 Star Khabre All rights reserved.
Website Designed by Mozart Infotech