Latest :
एनआईटी-1 मार्केट : क्या दुकानदारों को बचा पाएंगे महात्मा गांधीनगर निगम के अनुसार शहर में चल रहे मात्र 7 गेस्ट हाऊसनहरपार बॉबी की बिल्डिंग, अवैध निर्माण न तोड़ने की 10 लाख में हुई डील : ऑफ़ द रिकार्डसांसे मुहिम पर्यावरण के क्षेत्र में लाएगी हरित क्रांति - विजय प्रतापवाहन चोरी करने वाले एक आरोपी को क्राईम ब्रांच एनआईटी ने किया गिरफतारसुशांत सिंह राजपूत के पिता से मिले हरियाणा मुख्यमंत्री मनोहर लालफाइनल ईयर की परीक्षा कराने का फैसला वापिस ले यूजीसी : नीरज कुंदनके० एल० महत्ता दयानंद पब्लिक सी० सै० स्कूल नंबर 1, नेहरू ग्राउंड के विद्यार्थियों ने 12वीं के रिजल्ट में लहराया परचमजल्द से जल्द धार्मिक स्थलों को खोलने की इजाज़त दे सरकार : संजय भाटियाभोले-भाले लोगों को ठगने वाले एक शातिर गिरोह का खुलासा
Business

केवल नारे से नहीं चलेगा काम, डोकलाम के बाद चीन से दवा आयात 28% बढ़ा

June 22, 2020 09:50 AM

Star Khabre, Business; 22nd June : जब कभी सीमा पर भारत का चीन से किसी तरह का विवाद होता है, #BoycottChina का नारा चारों तरफ से लगने लगता है। भारत आत्मनिर्भर बनेगा और चीन पर अपनी निर्भरता कम करेगा, इस तरह की बातें सरकार और इंडस्ट्री दोनों तरफ से की जाती हैं। हालांकि सच्चाई इससे बिल्कुल अलग है। कोरोना संकट काल (Coronavirus crisis) में दवा बहुत अहम है, लेकिन इस मामले में भी भारत चीन पर बहुत ज्यादा निर्भर है और वक्त के साथ निर्भरता भी बढ़ती जा रही है।

पिछले चार सालों में आयात में 28 पर्संट का उछाल
वाणिज्य मंत्रालय के डेटा के मुताबिक, पिछले चार सालो में चीन से आयात होने वाले फार्मासूटिकल प्रॉडक्ट्स (Pharmaceutical products) में 28 फीसदी की तेजी आई है। 2015-16 में भारत ने चीन से 947 करोड़ का आयात किया था जो 2019-20 में बढ़ कर 1150 करोड़ रुपये का हो गया।

डोकलाम के समय भी लगा था चीन बहिष्कार का नारा
करीब तीन साल पहले 2017 में डोकलाम (Doklam Stand-off) में इसी तरह चीन के साथ भारत का विवाद हुआ था। उस दौरान भी इसी तरह बातें की जा रही थीं कि एक्टिव फार्मासूटिकल इंग्रिडिएंट यानी API के मामले में भारत आत्मनिर्भर बनेगा और चीन पर निर्भरता कम करेगा। यह बात इंडस्ट्री और सरकार दोनों तरफ से की जा रही थी, लेकिन सच्चाई सामने है।

पॉलिसी लागू करने में लगता है समय
दवा निर्माताओं का कहना है कि चीन से API समेत अन्य फार्म प्रॉडक्ट का आयात करना बहुत सस्ता होता है। भारत में पॉलिसी तो बन जाती है, लेकिन उसे अमल में लाने में बहुत समय लग जाता है। ऐसे में चीन पर निर्भरता बढ़ती जा रही है। गलवान घाटी घटना के बाद दोनों देश के व्यापारिक रिश्ते पर काफी दबाव है। हाल ही में सरकार ने इंडस्ट्री से कहा है कि वह चीन से आयात होने वाले गैर जरूरी और घटिया क्वॉलिटी के सामानों की लिस्ट तैयार करे, ताकि आयात बंद कर लोकल मैन्युफैक्चर्स को मौका मिल सके।

70 फीसदी से ज्यादा API आयात चीन से
फार्मा इंडस्ट्री के मुताबिक, भारत 70 फीसदी API चीन से आयात करता है। एपीआई दवा तैयार करने के लिए स्टार्टिंग मटीरियल है। अगर चीन निर्यात बंद कर दे तो भारत एंटी-इन्फेक्टिव, एंटी कैंसर जैसी जरूरी दवा तैयार नहीं कर पाएगा। कुछ दवाइयां ऐसी हैं, जिनके लिए भारत 80-90 फीसदी तक चीन से एपीआई का आयात करता है।

 
Have something to say? Post your comment
More Business

Coca Cola अगले 30 दिन तक सोशल मीडिया पर नहीं देगी विज्ञापन, जानें क्या है इस फैसले की वजह

पिछले दिनों में हुए Income Tax से जुड़े ये 6 बदलाव, जिन्हें जानना आपके लिए है जरूरी

ब्राजील से ठुकराए जाने के बाद अब भारत में वाट्सऐप पे लॉन्च करने का रास्ता साफ!

जानिए प्रवासी मजदूरों को वापस लाने के लिए अब क्या-क्या पापड़ बेल रही हैं कंपनियां

सोने-चांदी के वायदा भाव में गिरावट, वैश्विक कीमतें भी लुढ़कीं, जानिए क्या हैं दाम

पेट्रोल-डीजल के दाम में लगातार 14वें दिन बढ़ोत्तरी, जानें आपके शहर में क्या हो गए हैं रेट

चांदी की कीमतों में गिरावट, साेना और हुआ महंगा, जानें 19 जून का ताजा भाव

PM Modi ने लॉन्‍च की कोयला खानों की नीलामी, बोले- भारत COVID संकट को अवसर में बदलेगा

ट्रेन में किसी ने छोड़ दीं 14.48 करोड़ रुपये के सोने की ईंटें, नौ महीने से नहीं आया कोई दावेदार

रिटायरमेंट के बाद शानदार लाइफ बितानी हो तो अभी से शुरू कर दें प्लानिंग

 
 
 
 
 
 
Copyright © 2017 Star Khabre All rights reserved.
Website Designed by Mozart Infotech