Latest :
एनआईटी-1 मार्केट : क्या दुकानदारों को बचा पाएंगे महात्मा गांधीनगर निगम के अनुसार शहर में चल रहे मात्र 7 गेस्ट हाऊसनहरपार बॉबी की बिल्डिंग, अवैध निर्माण न तोड़ने की 10 लाख में हुई डील : ऑफ़ द रिकार्डसांसे मुहिम पर्यावरण के क्षेत्र में लाएगी हरित क्रांति - विजय प्रतापवाहन चोरी करने वाले एक आरोपी को क्राईम ब्रांच एनआईटी ने किया गिरफतारसुशांत सिंह राजपूत के पिता से मिले हरियाणा मुख्यमंत्री मनोहर लालफाइनल ईयर की परीक्षा कराने का फैसला वापिस ले यूजीसी : नीरज कुंदनके० एल० महत्ता दयानंद पब्लिक सी० सै० स्कूल नंबर 1, नेहरू ग्राउंड के विद्यार्थियों ने 12वीं के रिजल्ट में लहराया परचमजल्द से जल्द धार्मिक स्थलों को खोलने की इजाज़त दे सरकार : संजय भाटियाभोले-भाले लोगों को ठगने वाले एक शातिर गिरोह का खुलासा
WhatsApp/FaceBook Masala : Zamane Ke Naye Andaz Me

अच्छी नींद ही तेज दिमाग की चाबी

August 09, 2015 12:21 PM

Star Khabre, August 9th : आज के भागते-दौड़ते जीवन में लोगों की याददाश्त पर काफी असर पड़ रहा है। कभी-कभी हम भाग-दौड़ में काफी अहम चीजों को कमजोर याददाश्त के कारण भूल जाते हैं। शोधकर्ताओं के अनुसार, एक अच्छी नींद ही तेज दिमाग की चाबी है। उनका कहना है कि अच्छी नींद लेने के बाद हम उन तथ्यों को याद रखने में सक्षम होते हैं जो हम कभी-कभार जागते हुए भी याद नहीं रख पाते हैं।

ब्रिटेन की एक्सीटर यूनिवर्सिटी तथा स्पेन में स्थित संज्ञान, दिमाग और भाषा के लिए बसीक केंद्र की टीम के अनुसार नींद के कारण न सिर्फ हम अपनी याददाश्त को सुरक्षित रख पाते हैं, बल्कि इसे आसानी से दोहरा भी सकते हैं। एक्सीटर यूनिवर्सिटी के निकोलस डुमे का कहना है कि नींद के कारण हम अपने दिमाग में छिपी कई चीजों को याद कर सकते हैं, अच्छी नींद से याददाश्त को बरकरार रखने की जो क्षमता मिलती है, उससे ये संकेत मिलते हैं कि कुछ स्मृतियां सारी रात नींद के दौरान और भी तेज होती रहती हैं।

यह इस धारणा का समर्थन करता है कि सोते हुए हम महत्वपूर्ण जानकारियों का अभ्यास करते हैं। जहां एक स्थिति में लोग 12 घंटे तक जागने के कारण कुछ जानकारियों को भूल जाते हैं, वहीं दूसरी स्थिति में रातभर की नींद से हम उन जानकारियों को आसानी से याद कर पाते हैं, जिन्हें शुरुआती तौर में जागते हुए याद करने में एक हफ्ते का समय लगता है।

डॉ. डुमे का मानना है कि मस्तिष्क में टेम्पोरल लोब की एक आंतरिक संरचना हिप्पोकैम्पस के ही कारण याददाश्त को बनाए रखने में बढ़ावा मिलता है, ये इंसान के मस्तिष्क में दबी हुई चीजों को बाहर लाता है और उन्हें मूल रूप से दिमाग के उसी छिपे हुए स्थान पर फिर से रीप्ले करता है। इस रीप्ले के कारण हम दिनभर में हुए महत्वपूर्ण अनुभवों को अपने मस्तिष्क में जीवित रख पाते हैं। शोध के दौरान टीम ने उपन्यास के पढ़े गए शब्दों को दोहराया, जो उन्होंने या तो नींद से पहले अध्ययन किया था।

इसके बाद जब उनसे दोनों स्थितियों के दौरान अध्ययन की गई चीजों को दोहराने के लिए कहा गया तो इससे ये तथ्य सामने आया कि जागते रहने की तुलना में इंसान नींद के दौरान अध्ययन की गई चीजों को दोहराने में ज्यादा सक्षम होता है। इस तथ्य पर अधिक अभ्यास के बाद अंत में यही निष्कर्ष निकाला गया कि नींद न सिर्फ याददाश्त को बनाए रखने में मदद करती है, बल्कि उसे बेहतर तरीके से दोहराए जाने में भी मदद करती है। (एजेंसी)

 
Have something to say? Post your comment
More WhatsApp/FaceBook Masala : Zamane Ke Naye Andaz Me
 
 
 
 
 
 
Copyright © 2017 Star Khabre All rights reserved.
Website Designed by Mozart Infotech