Latest :
कर्नाटक में सरकार बनी तो लड्डू बांटकर मनाई खुशीसबसे कम उम्र के प्रधानमंत्री बनने वाले व्यक्ति थे भारत रत्न स्वर्गीय राजीव गांधी : कृष्ण अत्रीराजीव जी के विचारों को नहीं हरा पाएंगे देश बांटनेवाले - लखन सिंगलाऐसी प्रतियोगिताओं से बढ़ती हैं बच्चों की स्मरण शक्ति : सुमन बालाविद्यासागर इंटरनेशनल स्कूल में बच्चों ने इंज्वाय की समर पार्टीपूर्व पार्षद एवं कांग्रेस डेलीगेट लखन कुमार सिंगला ने आंदोलनरत कर्मचारियों को दिया समर्थनपत्रकार उत्पीडऩ के विरोध में फरीदाबाद के पत्रकारों का धरनापरम श्रद्धेय महामँडलेश्वर गीता मनीषी स्वामी ज्ञानानंद महाराज करेंगे गीता सत्संगजनता के मन में जात पांत का जहर घोल रही भाजपा - लखन सिंगलाGST का गोरखधंधा
Business

पनामा पेपर्स : दिल्ली-एनसीआर में 25 ठिकानों पर IT के छापे, 4 करोड़ कैश और ज्वेलरी जब्त

November 29, 2017 10:11 AM

Star Khabre, Delhi; 29th November : कर चोरी मामले में पनामा पेपर के खुलासे के सिलसिले में आयकर विभाग ने मंगलवार को दिल्ली और एनसीआर में 25 से ज्यादा ठिकानों पर छापेमारी की। आयकर विभाग की टीम ने मेटल, खाद्य प्रसंस्करण, वित्तीय सेवा और टायर के कारोबार में शामिल तीन व्यापारिक समूहों पर छापेमारी में 4 करोड़ कैश और ज्वेलरी अपने कब्जे में ले लिया।

आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि दिल्ली, गाजियाबाद और फरीदाबाद में जारी छापेमारी में करीब चार करोड़ नकद और गहने जब्त किए गए हैं। उन्होंने बताया कि इस दौरान जांच अधिकारियों ने कई दस्तावेज, कंप्यूटर हार्ड डिस्क और सीडी भी अपने कब्जे में ले लिया। इन कारोबारी घरानों का नाम पनामा पेपर्स में सामने आया था। इन पर अपने वास्तविक टर्नओवर और आमदनी की जानकारी को छुपाने का आरोप है। केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड (सीबीडीटी) ने हाल ही में कहा था कि पनामा पेपर्स मामले में 792 करोड़ रुपये की अघोषित संपत्ति का पता चला है और इसकी जांच तेज गति से चल रही है।
एक साल पहले वाशिंगटन स्थिति इंटरनेशनल कंसोर्टियम ऑफ इंवेस्टिगेटिव जर्नलिस्ट (आईसीआईजे) ने पनामा पेपर्स का खुलासा किया था। तक सीबीडीटी ने कहा था कि कुल 426 मामलों में से 147 मामले कार्रवाई के योग्य हैं।

जांच एजेंसी अब तक सात रिपोर्ट सौंप चुकी है

आयकर विभाग ने सभी 426 मामलों की जांच की, जिनमें से 28 मामलों का क्षेत्राधिकार दूसरे देशों का है। पनामा पेपर ने अमिताभ बच्चन और नवाज शरीफ सहित दुनियाभर के लोगों के बारे में खुलासा किया था।
इनमें 426 भारतीय या भारतीय मूल के लोग शामिल हैं। केंद्र सरकार ने इन मामलों की जांच के लिए पिछले साल अप्रैल में कई एजेंसियों को मिलाकर एक जांच दल का गठन किया था। जांच दल सरकार को अब तक सात रिपोर्ट सौंप चुका है। इसी मामले में पाकिस्तान के प्रधानमंत्री नवाज शरीफ को अपनी कुर्सी गंवानी पड़ी थी।

 
Have something to say? Post your comment
More Business
 
 
 
 
 
 
 
Copyright © 2017 Star Khabre All rights reserved.
Website Designed by Mozart Infotech