Latest :
स्वामी पुरुषोत्तमाचार्य जी ने दिया राजेश नागर की बेटी को आशीर्वादस्टार खबरें सर्वे : लगभग 250 वोटरों से जानी उनकी रायहूं..मैं हरियाणा का मुख्यमंत्री हूं : बिना नंबर प्लेट बुलैट चलाना मेरी शानस्टार खबरें का सबसे बड़ा सर्वे : क्या कह रही है फरीदाबाद विस की जनता? जानने के लिए पढ़ेनगर निगम में बड़े पैमाने पर इंजीनियरों के तबादलेभूपेन्द्र सिंह हुड्डा के पैर की हड्डी टूटीअमित शाह के बेटे को भी बेचने चाहिए पकौड़े : कृष्ण अत्रीफरीदाबाद का सबसे बड़ा सर्वे : स्टार खबरें फरीदाबाद में करेगा अबतक का सबसे बड़ा सर्वेये कागज की कश्ती वो बारीश का पानी जैसे गीत- गजलों ने बंधा समां अमित शाह का हरियाणा दौरा टालने की सलाह दी खुफिया एजेंसियों ने
Haryana

रोडवेज के चार जीएम सस्पेंड, बस रूट संचालन के गलत आंकड़े किए थे पेश

November 30, 2017 11:38 AM

Star Khabre, Delhi; 30th November : मुख्यमंत्री मनोहर लाल की बैठक में गलत आंकड़े पेश करने वाले हरियाणा रोडवेज के चार महाप्रबंधकों को सरकार ने निलंबित कर दिया है। सस्पेंड किए गए अधिकारियों में पलवल के रोडवेज महाप्रबंधक एनके गर्ग, नारनौल के महाप्रबंधक सुरेंद्र सिंह, जींद के महाप्रबंधक एमएस खर्ब और पानीपत के रोडवेज महाप्रबंधक एके डोगरा शामिल हैैं।

इन चारों अधिकारियों ने अक्टूबर और नवंबर माह की दो अलग-अलग रिपोर्ट में बस संचालन का अलग-अलग खर्च दिखाया, जिसे देखकर सरकार चकरा गई। सभी रोडवेज महाप्रबंधकों से यह रिपोर्ट मांगी गई थी कि उनके बस रूट संचालन में कितना खर्च पड़ रहा है, ताकि घाटे के बस रूट को बंद किया जा सके।

पलवल, नारनौल, जींद और पानीपत के रोडवेज महाप्रबंधकों को किया गया सस्पेंड

पलवल, नारनौल, जींद और पानीपत के महाप्रबंधकों ने अक्टूबर माह में मांगी गई अपनी रिपोर्ट में कहा कि उनके रूट पर बस संचालन का औसत खर्च 36 रुपये से 46 रुपये तक प्रति किलोमीटर आ रहा है। तब तक इन महाप्रबंधकों को यह नहीं मालूम था कि सरकार घाटे में चल रहे तथा अधिक खर्च वाले रूट को बंद कर सकती है। इसके बाद मुख्यमंत्री ने परिवहन विभाग की बैठक बुला ली।

अधिकारियों को फिर नवंबर माह की इस बैठक के लिए रिपोर्ट देने को कहा गया तो इस रिपोर्ट में चारों महाप्रबंधकों ने रूट खर्च 14 रुपये प्रति किलोमीटर से 21 रुपये प्रति किलोमीटर तक दिखाया। यानी सीधे 22 से 25 रुपये प्रति किलोमीटर खर्च कम हो गया। पलवल से दिल्ली-आगरा, पानीपत से जम्मू-शिमला, जींद से अमृतसर और नारनौल से जयपुर-कोटा समेत कई लंबे रूट पर बसों का संचालन होता है। इन विरोधाभासी आंकड़ों को देखकर परिवहन मंत्री और मुख्यमंत्री हैरान रह गए। उन्होंने विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव आरआर जोवल को जांच कराने के लिए कहा, जिसके बाद जांच में पाया गया कि चारों अधिकारियों ने गलत आंकड़े पेश किए है। लापरवाही पकड़े जाने पर चारों अफसरों को निलंबित कर दिया गया और उनका मुख्यालय चंडीगढ़ में बना दिया गया है।

 
Have something to say? Post your comment
More Haryana
 
 
 
 
 
 
 
Copyright © 2017 Star Khabre All rights reserved.
Website Designed by Mozart Infotech