Latest :
फरीदाबाद की जनता का अपमान नही सहेगी एनएसयूआई : कृष्ण अत्रीभाजपा विधायक मूलचंद शर्मा की याचिका मंजूर, अपराधिक मामले में कोर्ट ने किया नोटिस जारीस्वामी पुरुषोत्तमाचार्य जी ने दिया राजेश नागर की बेटी को आशीर्वादस्टार खबरें सर्वे : लगभग 250 वोटरों से जानी उनकी रायहूं..मैं हरियाणा का मुख्यमंत्री हूं : बिना नंबर प्लेट बुलैट चलाना मेरी शानस्टार खबरें का सबसे बड़ा सर्वे : क्या कह रही है फरीदाबाद विस की जनता? जानने के लिए पढ़ेनगर निगम में बड़े पैमाने पर इंजीनियरों के तबादलेभूपेन्द्र सिंह हुड्डा के पैर की हड्डी टूटीअमित शाह के बेटे को भी बेचने चाहिए पकौड़े : कृष्ण अत्रीफरीदाबाद का सबसे बड़ा सर्वे : स्टार खबरें फरीदाबाद में करेगा अबतक का सबसे बड़ा सर्वे
Exclusive

राम जन्मभूमि विवाद:सुप्रीम कोर्ट में आज से होगी सुनवाई

December 05, 2017 07:20 AM

Star Khabre, Delhi; 05th December : अयोध्या के राम जन्मभूमि-बाबरी मस्जिद विवाद की मंगलवार पांच दिसंबर से सुप्रीम कोर्ट में शुरू हो रही है। सुनवाई में शामिल होने के लिए विवाद से जुड़े सभी पक्षकार नई दिल्ली में हैं। इलाहाबाद हाईकोर्ट की लखनऊ बेंच में सुन्नी वक्फ बोर्ड की तरफ से पैरवी करने वाले वरिष्ठ अधिवक्ता जफरयाब जीलानी शुक्रवार से ही नई दिल्ली में हैं। इनके अलावा निर्मोही अखाड़ा से वरिष्ठ अधिवक्ता रंजीत लाल वर्मा भी दिल्ली पहुंच चुके हैं। 

सुनवाई सुप्रीम कोर्ट की तीन सदस्यीय पूर्ण पीठ करेगी, जिसमें भारत के मुख्य न्यायाधीश न्यायमूर्ति दीपक मिश्र के अलावा न्यायमूर्ति अशोक भूषण और न्यायमूर्ति अब्दुल नजीर शामिल हैं। सुप्रीम कोर्ट में सुन्नी सेंट्रल वक्फ बोर्ड और पांच अन्य पक्षकार हैं, जबकि हिंदुओं की तरफ से निर्मोही अखाड़ा, हिंदू महासभा, रामलला विराजमान और रमेश चंद्र त्रिपाठी व शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानंद सरस्वती की अगुवाई वाली रामजन्म भूमि पुनरुद्धार समिति हैं। सुप्रीम कोर्ट में सुन्नी वक्फ बोर्ड की तरफ से वरिष्ठ अधिवक्ता कपिल सिब्बल, डॉ. राजीव धवन और दुष्यंत दबे रहेंगे तो रामलला विराजमान की ओर से एडवोकेट ऑन रिकार्ड योगेश्वरन होंगे। 

हिन्दू महासभा की ओर एडवोकेट ऑन रिकार्ड विष्णु शंकर जैन और निर्मोही अखाड़ा की ओर एसके जैन होंगे। सुनवाई में शिया सेंट्रल वक्फ बोर्ड की ओर से दिए प्रार्थना पत्र पर भी फैसला होगा। सुनवाई में तय होगा कि शिया वक्फ बोर्ड पक्षकार होगा या नहीं। रामजन्म भूमि मंदिर निर्माण न्यास के महासचिव अमरनाथ मिश्र का तर्क है कि शिया वक्फ बोर्ड के चेयरमैन ने सुप्रीम कोर्ट में विवाद के समाधान का जो फार्मूला दाखिल किया है, उस पर अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेन्द्र गिरी, महंत नृत्य गोपाल दास और हनुमान गढ़ी के महंत धर्मदास और महंत रामदास आदि नौ लोगों के हस्ताक्षर हैं। 

 
Have something to say? Post your comment
More Exclusive

रेणुका चौधरी: फफक कर रोने से लेकर ठहाकों तक की कहानी

सत्येंद्र जैन की मुश्किलें बढ़ीं, तीन संपत्तियों के कागजात बरामद

ATM में पैसे निकाल रहे शख्स और उसकी बेटी पर ताना पिस्टल और फिर...

पंजाब में छात्रों के प्रदर्शन के दौरान पुलिस अधिकारी ने खुद को गोली मारी

महाराष्ट्र : लोगों से भरी बस नदी में गिरी, 9 महीने की बच्ची समेत 13 लोगों की मौत

उत्तर प्रदेश : होटल में रुकी महिला अधिकारी से छेड़छाड़, वेटर गिरफ्तार

सीलिंग के विरोध में मंगलवार को दिल्‍ली में बंद रहेंगी 7 लाख से ज्‍यादा दुकानें

चुनाव आयोग के 'जाल' से निकलने की जुगत लगा रही 'आप', कांग्रेस-बीजेपी की नजरें उपचुनाव पर

अरविंद केजरीवाल को अब तक का सबसे बड़ा झटका, 20 AAP विधायक अयोग्य

मुजफ्फरपुर की पुलिस लाइन में महिला सिपाही का शव फंदे से झूलता हुआ मिला

 
 
 
 
 
 
 
Copyright © 2017 Star Khabre All rights reserved.
Website Designed by Mozart Infotech