Latest :
कर्नाटक में सरकार बनी तो लड्डू बांटकर मनाई खुशीसबसे कम उम्र के प्रधानमंत्री बनने वाले व्यक्ति थे भारत रत्न स्वर्गीय राजीव गांधी : कृष्ण अत्रीराजीव जी के विचारों को नहीं हरा पाएंगे देश बांटनेवाले - लखन सिंगलाऐसी प्रतियोगिताओं से बढ़ती हैं बच्चों की स्मरण शक्ति : सुमन बालाविद्यासागर इंटरनेशनल स्कूल में बच्चों ने इंज्वाय की समर पार्टीपूर्व पार्षद एवं कांग्रेस डेलीगेट लखन कुमार सिंगला ने आंदोलनरत कर्मचारियों को दिया समर्थनपत्रकार उत्पीडऩ के विरोध में फरीदाबाद के पत्रकारों का धरनापरम श्रद्धेय महामँडलेश्वर गीता मनीषी स्वामी ज्ञानानंद महाराज करेंगे गीता सत्संगजनता के मन में जात पांत का जहर घोल रही भाजपा - लखन सिंगलाGST का गोरखधंधा
Exclusive

राम जन्मभूमि विवाद:सुप्रीम कोर्ट में आज से होगी सुनवाई

December 05, 2017 07:20 AM

Star Khabre, Delhi; 05th December : अयोध्या के राम जन्मभूमि-बाबरी मस्जिद विवाद की मंगलवार पांच दिसंबर से सुप्रीम कोर्ट में शुरू हो रही है। सुनवाई में शामिल होने के लिए विवाद से जुड़े सभी पक्षकार नई दिल्ली में हैं। इलाहाबाद हाईकोर्ट की लखनऊ बेंच में सुन्नी वक्फ बोर्ड की तरफ से पैरवी करने वाले वरिष्ठ अधिवक्ता जफरयाब जीलानी शुक्रवार से ही नई दिल्ली में हैं। इनके अलावा निर्मोही अखाड़ा से वरिष्ठ अधिवक्ता रंजीत लाल वर्मा भी दिल्ली पहुंच चुके हैं। 

सुनवाई सुप्रीम कोर्ट की तीन सदस्यीय पूर्ण पीठ करेगी, जिसमें भारत के मुख्य न्यायाधीश न्यायमूर्ति दीपक मिश्र के अलावा न्यायमूर्ति अशोक भूषण और न्यायमूर्ति अब्दुल नजीर शामिल हैं। सुप्रीम कोर्ट में सुन्नी सेंट्रल वक्फ बोर्ड और पांच अन्य पक्षकार हैं, जबकि हिंदुओं की तरफ से निर्मोही अखाड़ा, हिंदू महासभा, रामलला विराजमान और रमेश चंद्र त्रिपाठी व शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानंद सरस्वती की अगुवाई वाली रामजन्म भूमि पुनरुद्धार समिति हैं। सुप्रीम कोर्ट में सुन्नी वक्फ बोर्ड की तरफ से वरिष्ठ अधिवक्ता कपिल सिब्बल, डॉ. राजीव धवन और दुष्यंत दबे रहेंगे तो रामलला विराजमान की ओर से एडवोकेट ऑन रिकार्ड योगेश्वरन होंगे। 

हिन्दू महासभा की ओर एडवोकेट ऑन रिकार्ड विष्णु शंकर जैन और निर्मोही अखाड़ा की ओर एसके जैन होंगे। सुनवाई में शिया सेंट्रल वक्फ बोर्ड की ओर से दिए प्रार्थना पत्र पर भी फैसला होगा। सुनवाई में तय होगा कि शिया वक्फ बोर्ड पक्षकार होगा या नहीं। रामजन्म भूमि मंदिर निर्माण न्यास के महासचिव अमरनाथ मिश्र का तर्क है कि शिया वक्फ बोर्ड के चेयरमैन ने सुप्रीम कोर्ट में विवाद के समाधान का जो फार्मूला दाखिल किया है, उस पर अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेन्द्र गिरी, महंत नृत्य गोपाल दास और हनुमान गढ़ी के महंत धर्मदास और महंत रामदास आदि नौ लोगों के हस्ताक्षर हैं। 

 
Have something to say? Post your comment
More Exclusive

ये है वो शख्स जिसने बनाई हनुमान की गुस्से वाली तस्वीर, पीएम मोदी ने की जमकर तारीफ

हरियाणा ने खारिज की WHO की प्रदूषण रिपोर्ट, आंकड़ों के स्रोत पर जताया संदेह

लो हो गई आयकर विभाग के कार्यालय से भी दो करोड़ रुपये के सोने की चोरी, तीन गिरफ्तार

दिल्ली के अमन विहार में 19 साल की लड़की से हैवानियत, बंधक बनाकर रेप और मारपीट

नीरव मोदी की गिरफ्तारी पर चीन ने कहा, हांगकांग प्रशासन ले सकता है फैसला

फेसबुक डाटा लीक के बाद वाट्सएप भी शक के घेरे में

दिल्ली: 12वीं की छात्रा ने फांसी लगाकर की खुदकुशी, सुसाइड नोट में बताई मरने की वजह

छात्र ने विमान में उतारे कपड़े, पॉर्न देखा और एयरहोस्‍टेस से की बदतमीजी, हुआ गिरफ्तार

शेर और भालू के बीच हुई जंग, वीडियो में कैद हुई पूरी फाइट

कार्ति चिदंबरम मामला: इंद्राणी मुखर्जी ने कहा, चिदंबरम को FIPB क्लीयरेंस के लिए 7 लाख डॉलर दिए थे

 
 
 
 
 
 
 
Copyright © 2017 Star Khabre All rights reserved.
Website Designed by Mozart Infotech