Latest :
फरीदाबाद की जनता का अपमान नही सहेगी एनएसयूआई : कृष्ण अत्रीभाजपा विधायक मूलचंद शर्मा की याचिका मंजूर, अपराधिक मामले में कोर्ट ने किया नोटिस जारीस्वामी पुरुषोत्तमाचार्य जी ने दिया राजेश नागर की बेटी को आशीर्वादस्टार खबरें सर्वे : लगभग 250 वोटरों से जानी उनकी रायहूं..मैं हरियाणा का मुख्यमंत्री हूं : बिना नंबर प्लेट बुलैट चलाना मेरी शानस्टार खबरें का सबसे बड़ा सर्वे : क्या कह रही है फरीदाबाद विस की जनता? जानने के लिए पढ़ेनगर निगम में बड़े पैमाने पर इंजीनियरों के तबादलेभूपेन्द्र सिंह हुड्डा के पैर की हड्डी टूटीअमित शाह के बेटे को भी बेचने चाहिए पकौड़े : कृष्ण अत्रीफरीदाबाद का सबसे बड़ा सर्वे : स्टार खबरें फरीदाबाद में करेगा अबतक का सबसे बड़ा सर्वे
Exclusive

हरियाणा ने दिया सवाल तो पूरे देश में छिड़ी बहस, जानें क्‍या है मामला

December 08, 2017 12:13 PM

Star Khabre, Haryana; 08th December : देशभर में एक बहस छिड़ी हुई है कि लोकसभा और विधानसभा में कानून बनाने वाले हमारे माननीय पढ़े लिखे होने चाहिए। भाजपा शासित राज्यों में शामिल हरियाणा में मनोहर सरकार पिछले पंचायत चुनाव में पढ़ी लिखी शासन व्यवस्था का सफल प्रयोग कर चुकी है। इसको लेकर हरियाणा सरकार ने केंद्र सरकार को पत्र लिखकर पहल की है। इस पहल पर सुप्रीम कोर्ट तक ने भी एक तरह से मुहर लगाई है। इसके समर्थन और विरोध के बीच बड़ा सवाल है कि यदि पंचायत प्रतिनिधि पढ़े-लिखे होने चाहिए तो सांसद व विधायकों के लिए भी यह प्रावधान क्‍यों नहीं हो।

एमपी-एमएलए की शैक्षिक योग्यता तय करने वाले मनोहर के पत्र से छिड़ी नई बहस

हरियाणा की पहल‍के बाद अब बाकी राज्य भी उसके नक्शे-कदम पर चलने का साहस जुटाने की कोशिश में है। नया मुद्दा पढ़े लिखे विधायकों और सांसदों के चयन का है। मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को विधायकों व सांसदों के लिए न्यूनतम शैक्षिक योग्यता निर्धारित करने का पत्र लिखकर पूरे देश में छिड़ी बहस को हवा देने का काम किया है।

हरियाणा कर चुका पंचायत चुनाव में सफल प्रयोग, अब फिर झंडा थामने की तैयारी

विधायकों के लिए स्नातक और सांसदों के लिए स्नातकोत्तर तक पढ़ाई जरूरी करने का प्रस्ताव है। मुख्यमंत्री के इस प्रस्ताव पर कितना और कब अमल होता है, यह भविष्य का सवाल है, लेकिन पढ़ी लिखी विधायिका के हक और विरोध में स्वर मुखर होने लगे हैं।

पहले हरियाणा की ही बात करते हैं। 90 सदस्यीय विधानसभा में 30 विधायक ऐसे हैं, जो स्नातक तक पढ़ाई के खांचे में फिट नहीं बैठते। इनमें आधा दर्जन मंत्री भी शामिल हैं। 17 विधायक 12वीं पास, आठ विधायक 10वीं पास और चार विधायक मात्र आठवीं पास हैं। एक विधायक तो ऐसा भी है, जो अंगूठा टेक यानी पूरी तरह से निरक्षर है। दो विधायक डाक्ट्रेट और 12 विधायक स्नातकोत्तर भी हैं। यानी सब कुछ धुंधला-धुंधला ही नहीं है।
यह रहा विधायकों-सांसदों का नजरिया

सवाल उठता है कि यदि विधायकों और सांसदों के लिए न्यूनतम शैक्षिक योग्यता निर्धारित कर दी गई तो इसका असर क्या होगा। हम पहले बात करते हैं राजनीतिक लोगों की। इस व्यवस्था के लागू होने का सबसे बड़ा नुकसान टिकट के दावेदार नेताओं को है। अगर यह सिस्टम अगली बार से ही लागू होता है तो राज्य के 30 विधायकों का टिकट कटना तय है।

ऐसे में ये विधायक किसी सूरत में नहीं चाहेंगे कि पढ़ी लिखी शासन व्यवस्था की परिपाटी शुरू हो सके। यह तो रही मौजूदा विधायकों की बात। अब उन लोगों की भी चिंता कर लें जो हर पांच साल में चुनाव आने का इंतजार करते हैं और टिकट के लिए दावेदारी करते हैं। टिकट के तलबगार अगर ग्रेजुएट या पोस्ट ग्रेजुएट हैं तो उनकी दावेदारी को बल मिलेगा वरना उन्हें टिकट की दौड़ से खुद को बाहर मानकर अपने लिए वैकल्पिक व्यवस्था करनी होगी।
जनता के नजरिए से सोचना भी जरूरी

मुख्यमंत्री के पत्र का दूसरा पहलू आम लोगों के लिए पारदर्शी और बढिय़ा सिस्टम खड़ा करने से जुड़ा है, जहां भ्रष्टाचार का कोई नामो-निशान न हो। इसके लिए लोकसभा और विधानसभा में पढ़े लिखे जनप्रतिनिधियों का पहुंचना जरूरी है। ऐसा तभी होगा, जब राजनीतिक जुगाड़ के जरिए टिकट हथियाने वाले पुराने नेताओं को साइड लाइन कर नई पीढ़ी के पढ़े लिखे राजनीतिक समझ वाले युवाओं अथवा लोगों को विधायिका में जाने का मौका मिलेगा। फिर अधकचरे कानून बनाने का डर नहीं रहेगा।
धनखड़ ने मनोहर को मनाया और मनोहर अब मोदी को कर रहे तैयार

हरियाणा के पंचायत एवं ग्रामीण विकास मंत्री ओमप्रकाश धनखड़ ने कहा कि पंचायत चुनाव में शैक्षिक योग्यता का फार्मूला लागू कर पूरे देश के सामने शानदार नजीर पेश की है। उन्होंने सबसे पहले मुख्यमंत्री मनोहर लाल को भरोसे में लिया और मुख्यमंत्री ने प्रधानमंत्री का विश्वास जीता। इसका नतीजा यह हुआ कि हरियाणा में अब पंचायत व्यवस्था पढ़े लिखे नए लोगों के हाथों में है।

राज्‍य में पंचायत चुनाव में सामान्य वर्ग के पुरुषों लिए दसवीं पास, महिलाओं के लिए आठवीं पास, दलितों के लिए आठ और दलित महिलाओं के लिए पांचवीं पास होने की शर्त अब बाकी राज्यों में चर्चा का अहम बिंदु बन गई है। हरियाणा में बर्गर किंग पंचायत का चुनाव जीती तो कारपोरेट कंपनी में काम करने वाली युवती भी सरपंच बनी।
विधानसभा में यह है पढ़े लिखों का बही खाता

हरियाणा की 90 सदस्यीय विधानसभा में 60 एमएलए ही ग्रेजुएट या इसके समकक्ष डिग्री वाले अथवा अधिक पढ़े लिखे हैं। 30 विधायक ऐसे हैं, जिनकी शैक्षिक योग्यता 12वीं या इससे कम है। 90 विधायकों में 25 बीए, 17 विधायक 12वीं पास, 20 ग्रेजुएट बिजनेसमैन, 12 एमए, चार आठवीं पास, एक पांचवीं पास, आठ विधायक दसवीं पास और दो विधायक पीएचडी हैं।

हरियाणा के अंडर ग्रेजुएट विधायक और मंत्री

1. परिवहन एवं आवास मंत्री कृष्णलाल पंवार - दसवीं पास और बायलर कंपेटेंसी डिप्लोमा।
2. असंध के भाजपा विधायक एवं पूर्व सीपीएस बख्शीश सिंह विर्क - दसवीं पास।
3. कालांवाली के अकाली दल (बादल) विधायक बलकौर सिंह - दसवीं पास।  
4. पटौदी से भाजपा विधायक बिमला चौधरी - पांचवीं पास।
5. भाजपा विधायक दल के मुख्य सचेतक एवं पंचकूला के विधायक ज्ञानचंद गुप्ता - 12वीं पास।
6. जींद से इनेलो विधायक हरिचंद मिड्डा - दसवीं पास।
7. खरखौदा से कांग्रेस विधायक जयवीर वाल्मीकि - 12वीं पास।
8. विधानसभा में इनेलो विधायक दल के उपनेता एवं पेहवा से विधायक जसविंद्र सिंह संधू - दसवीं।
9. गुहला से भाजपा विधायक कुलवंत बाजीगर - 12वीं पास।
10. कलानौर से कांग्रेस विधायक शकुंतला खटक - 12वीं पास और नर्सिंग का डिप्लोमा।
11. बरौदा से कांग्रेस विधायक श्रीकृष्ण हुड्डा - अंडर मैट्रिक।
12. सिरसा से इनेलो विधायक मक्खन सिंगला - आठवीं से कम पढ़े।
13. सहकारिता मंत्री एवं रोहतक से भाजपा विधायक मनीष ग्रोवर - 12वीं पास।
14. नरवाना से इनेलो विधायक पृथ्वी सिंह - आठवीं पास।
15. दादरी से इनेलो विधायक राजदीप फौगाट - 12वीं पास।
16. रानियां से इनेलो विधायक रामचंद्र कांबोज - 12वीं पास।
17. नलवा से इनेलो विधायक एवं पूर्व सांसद रणबीर गंगवा - 12वीं पास।
18. समालखा से आजाद विधायक रवींद्र मछरौली - दसवीं पास।
19. सोहना से भाजपा विधायक तेजपाल तंवर - 12वीं पास।
20. पृथला से बसपा विधायक टेक चंद शर्मा - प्री-यूनिवर्सिटी एवं डिप्‍लोमा।

 
Have something to say? Post your comment
More Exclusive

रेणुका चौधरी: फफक कर रोने से लेकर ठहाकों तक की कहानी

सत्येंद्र जैन की मुश्किलें बढ़ीं, तीन संपत्तियों के कागजात बरामद

ATM में पैसे निकाल रहे शख्स और उसकी बेटी पर ताना पिस्टल और फिर...

पंजाब में छात्रों के प्रदर्शन के दौरान पुलिस अधिकारी ने खुद को गोली मारी

महाराष्ट्र : लोगों से भरी बस नदी में गिरी, 9 महीने की बच्ची समेत 13 लोगों की मौत

उत्तर प्रदेश : होटल में रुकी महिला अधिकारी से छेड़छाड़, वेटर गिरफ्तार

सीलिंग के विरोध में मंगलवार को दिल्‍ली में बंद रहेंगी 7 लाख से ज्‍यादा दुकानें

चुनाव आयोग के 'जाल' से निकलने की जुगत लगा रही 'आप', कांग्रेस-बीजेपी की नजरें उपचुनाव पर

अरविंद केजरीवाल को अब तक का सबसे बड़ा झटका, 20 AAP विधायक अयोग्य

मुजफ्फरपुर की पुलिस लाइन में महिला सिपाही का शव फंदे से झूलता हुआ मिला

 
 
 
 
 
 
 
Copyright © 2017 Star Khabre All rights reserved.
Website Designed by Mozart Infotech