Latest :
सेक्टर 12 परेड ग्राउंड से परेड कर लौट रहे होमगार्ड की मौतएनएसयूआई से डर कर खट्टर सरकार ने पुलिस को किया आगे : कृष्ण अत्रीशहर में दो घटनाएं घटित, आत्महत्या और एक नाईजीरियन गिरफ्तारमंदिर बांटे, मस्जिद बांटे, मत बांटो इंसान कोवरिष्ठ कांग्रेसी नेता लखन सिंगला ने दी स्वतंत्रता दिवस की शुभकामनाएंट्रक चालक को मारी गोली, घायल अवस्था में अस्पताल में भर्तीविद्यासागर इंटरनेशनल स्कूल में धूमधाम से मनाया गया स्वतंत्रता दिवसशहर में हुई लूट और आत्महत्या की घटनाएं घटित जाने कहांसंदिग्ध हालत में मिली युवक की लाशमुस्लिम युवक ने किया 4 साल की बच्ची से बलात्कार, हुआ गिरफ्तार
Business

बैंकों को 88 हजार करोड़ रुपये की डोज

January 25, 2018 08:09 AM

Star Khabre, Delhi; 25th January : मोदी सरकार ने पूंजी के अभाव से जूझ रहे सार्वजनिक क्षेत्र के 20 बैंकों में 88,139 करोड़ रुपये डालने की घोषणा कर दी है। सबसे ज्यादा 10,610 करोड़ रुपये आईडीबीआई बैंक को दिए जाएंगे।

वित्त मंत्री अरुण जेटली ने बुधवार को कहा कि उनके मंत्रालय ने बैंकों में पूंजी डालने को लेकर विस्तृत विचार-विमर्श के बाद योजना तैयार की है। सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों में 2.1 लाख करोड़ रुपये की पूंजी डालने की योजना पिछले साल अक्तूबर में घोषित की गई थी। यह रकम दो वित्त वर्षों 2017-18 और 2018-19 के दौरान दी जाएगी। जेटली ने कहा कि बैंकों की संचालन व्यवस्था उच्च मानकों वाली बनाने के लिए कदम उठाए जाएंगे। बैंकों की पिछली स्थिति नहीं दोहराई जाए यह सुनिश्चित करने के लिए संस्थागत प्रणाली की जरूरत है। बैंकों के 250 करोड़ रुपये से अधिक के कर्ज की विशेष निगरानी होगी।

वित्त मंत्रालय ने कहा है कि 80,000 करोड़ रुपये के पुनर्पूंजीकरण बॉन्ड से राजकोषीय घाटे पर असर नहीं होगा क्योंकि ये नकदी की दृष्टि से तटस्थ हैं। आर्थिक मामलों के सचिव एससी गर्ग ने बताया कि ये बॉन्ड सांविधिक तरलता अनुपात की श्रेणी वाले सरकारी बॉन्ड नहीं होंगे। ये 10-15 साल की परिपक्वता वाले होंगे।

बैंक मिलेगी रकम

आईडीबीआई 10,610

बीओआई 9,232

एसबीआई 8,800

यूको 6,507

पीएनबी 5,473

बीओबी 5,375

सेंट्रल बैंक 5,158

नोट: रकम करोड़ रुपये में। कई और बैंकों में भी पूंजी डाली जाएगी।

इनसेट--

यूपी के कई शहर जुड़ेंगे हवाई सेवाओं से

एनबीटी ब्यूरो, नई दिल्ली : अगले कुछ महीनों में यूपी के इलाहाबाद, आजमगढ़ और मुरादाबाद जैसे शहर हवाई मार्ग से जुड़ जाएंगे। यह संभव हो रहा है क्षेत्रीय संपर्क योजना (उड़ान) के जरिए। सरकार ने बुधवार को एयरलाइंस और हेलिकॉप्टर ऑपरेटरों के 90 प्रस्तावों के तहत हवाई सेवाएं शुरू करने को मंजूरी दी। केंद्रीय नागरिक उड्डयन मंत्री अशोक पी. गणपति राजू ने बताया कि उड़ान स्कीम के दूसरे राउंड की बिडिंग प्रक्रिया पूरी हो चुकी है। इसमें 502 रूटों को शामिल किया गया था। 90 रूटों पर इस योजना के तहत फ्लाइटस के लिए अनुमति पत्र एयरलाइंस को दिए गए हैं। इनमें से 23 रूट हेलिकॉप्टर के लिए हैं, जबकि 67 रूट छोटे विमानों के लिए हैं।

 
Have something to say? Post your comment
More Business
 
 
 
 
 
 
Copyright © 2017 Star Khabre All rights reserved.
Website Designed by Mozart Infotech