Latest :
श्री सिद्धदाता आश्रम के अधिपति जगदगुरु स्वामी पुरुषोत्तमाचार्य जी को भेंट की विवरणिकासचिन ठाकुर ने बेसहारा बच्चों के साथ पौधारोपण कर मनाया जन्मदिन पॉलिथीन फ्री हो शहर : विपुल गोयलदिल्ली-एनसीआर समेत पूरे उत्तर भारत में आंधी-बारिश का कहर, 56 लोगों की मौत, 27 फ्लाइट डायवर्टहाथ में चाकू लेकर बनवाई वीडियो, गिरफ्तारसमाज को तोडऩे वालों से सजग रहें मेरे भारतवासी - दीपेंद्र हुड्डातीन पार्षद होंगे अगले सप्ताह विधिवत मनोनीतमूलभूत सुविधाओं के लिए तरस रहा है गांव अनखीर : हरेन्द्र सिंहआस्ट्रेलियन डेलीगेट्स ने किया सुमित गौड़ के कांग्रेस भवन का निरीक्षणउद्योग मंत्री विपुल गोयल ने सुनी सेक्टर 14 में जनता दरबार लगाकर समस्याएं
Exclusive

केजरीवाल सरकार और अफसरों में तलवार खिंचने का क्या ये है कारण?

February 21, 2018 06:15 PM

Star Khabre, Delhi; 21st February : दिल्ली की अरविंद केजरीवाल सरकार और अफसरों के बीच तलवार खिंचने का नया कारण सामने आया है. अधिकारियों के मुताबिक केजरीवाल सरकार अपना तीन साल का विज्ञापन जारी करना चाहती थी जिसमें दावा किया जा रहा था दिल्ली में बीते 3 साल में भ्रष्टाचार बहुत कम हो गया है जबकि अधिकारी कह रहे थे कि इस दावे को प्रमाणित नहीं किया जा सकता, इसलिए विज्ञापन में ऐसे दावे नहीं किये जा सकते. 

दिल्ली के सूचना और जन सम्पर्क विभाग के सचिव डॉ जयदेव सारंगी ने कहा 'इस विज्ञापन में कहा गया था कि तीन साल में दिल्ली में करप्शन में भारी कमी आई है जिसको विजिलेंस या कोई भी विभाग प्रमाणित करने को तैयार नहीं था और बिना किसी विभाग प्रमुख के प्रमाणित किये प्रचार विभाग उसको जारी नहीं कर सकता क्योंकि सुप्रीम कोर्ट की गाइडलाइन्स है कि आप केवल तथ्यात्मक बातें ही विज्ञापन में कह सकते हैं.'
लेकिन इसी विज्ञापन के बारे में पहले ये बात सामने आ रही थी कि इसमें ये कहा गया था कि 'जब आप सच्चाई के रास्ते पर चलते हो तो ब्रह्मांड की दृश्य-अदृश्य शक्तियों आपकी मदद में लग जाती हैं' और इसको कोई भी विभाग प्रमाणित करने को तैयार नहीं था, जिससे विज्ञापन फंसा हुआ है. कहा जा रहा था कि अधिकारियों ने अदृश्य शक्तियों वाली बात पर आपत्ति जताई थी.  सारंगी से जब ये पूछा गया तो उन्होंने कहा 'ये बातें कहाँ से आई या किसी ने इस बात पर आपत्ति की है इसकी मुझे जानकारी नही'.

ये है दिल्ली सरकार को दावा जो पार्टी की ओर से ट्वीट में किया गया. इससे मिलता जुलता विज्ञापन सरकार की ओर जारी करने को लेकर विवाद हो गया...

आपको बता दें कि मुख्य सचिव अंशु प्रकाश और सभी अफ़सर दावा कर रहे हैं कि सोमवार की रात को सीएम केजरीवाल ने इस तीन साल के विज्ञापन को मंज़ूरी देने का दबाव बनाने के लिए ही बैठक बुलाई थी. इसमें विधायकों ने डराया धमकाया और मारपीट की जबकि दिल्ली सरकार और आम आदमी पार्टी का दावा है कि बैठक राशन कार्ड के मुद्दे पर थी जिसमे मुख्य सचिव ने विधायकों से गाली गलौज की और जाति सूचक शब्द कहे. 

 
Have something to say? Post your comment
More Exclusive

ये है वो शख्स जिसने बनाई हनुमान की गुस्से वाली तस्वीर, पीएम मोदी ने की जमकर तारीफ

हरियाणा ने खारिज की WHO की प्रदूषण रिपोर्ट, आंकड़ों के स्रोत पर जताया संदेह

लो हो गई आयकर विभाग के कार्यालय से भी दो करोड़ रुपये के सोने की चोरी, तीन गिरफ्तार

दिल्ली के अमन विहार में 19 साल की लड़की से हैवानियत, बंधक बनाकर रेप और मारपीट

नीरव मोदी की गिरफ्तारी पर चीन ने कहा, हांगकांग प्रशासन ले सकता है फैसला

फेसबुक डाटा लीक के बाद वाट्सएप भी शक के घेरे में

दिल्ली: 12वीं की छात्रा ने फांसी लगाकर की खुदकुशी, सुसाइड नोट में बताई मरने की वजह

छात्र ने विमान में उतारे कपड़े, पॉर्न देखा और एयरहोस्‍टेस से की बदतमीजी, हुआ गिरफ्तार

शेर और भालू के बीच हुई जंग, वीडियो में कैद हुई पूरी फाइट

कार्ति चिदंबरम मामला: इंद्राणी मुखर्जी ने कहा, चिदंबरम को FIPB क्लीयरेंस के लिए 7 लाख डॉलर दिए थे

 
 
 
 
 
 
 
Copyright © 2017 Star Khabre All rights reserved.
Website Designed by Mozart Infotech