National

फेसबुक पोस्ट के लिए बरेली के डीएम को यूपी सरकार ने थमाई चार्जशीट

March 01, 2018 11:40 AM

Star Khabre, Delhi; 01st March : उत्तर प्रेदश में बरेली ज़िले के डीएम राघवेंद्र विक्रम सिंह को सरकार ने उनके फेसबुक पोस्ट पर चार्जशीट दे दी है. उनके फेसबुक पोस्ट को उनके सर्विस कंडक्ट रूल की खिलाफ माना गया है. डीएम ने कासगंज में हुए दंगे के बाद फेसबुक पर दक्षिणपंथी संगठनों को दंगा भड़काने का ज़िम्मेदार बताया था. 

बता दें कि उत्तर प्रदेश के कासगंज में तिरंगा यात्रा को लेकर दो समुदाय के बीच हिंसक झड़प को लेकर एक जिलाधिकारी को अपने फेसपुक पोस्ट की वजह से गुस्से का सामना करना पड़ा था. दरअसल, कासगंज हिंसा को लेकर बरेली के डीएम राघवेंद्र विक्रम सिंह ने एक फेसबुक पोस्ट लिखा, जिसके ऊपर काफी विवाद खड़ा हो गया, मगर राज्य सरकार की सख्ती के बाद बरेली के डीएम ने अपनी फेसबुक पोस्ट को लेकर माफी मांग ली है और अपनी सफाई दी. बरेली के डीएम राघवेंद्र विक्रम सिंह ने मंगलवार को अपने फेसबुक पोस्ट में अपनी पुरानी पोस्ट को लेकर सफाई दी और माफी भी मांगते हुए लिखा कि, 'हमारी पोस्ट बरेली में कांवर यात्रा के दौरान आई Law n order की समस्या से सम्बंधित थी. I had hoped there will be academic discission but unfortunately it had taken a different turn . Extremely sad .हम आपस में चर्चा इस लिए करते हैं कि हम बेहतर हो सकें . ऐसा लगता है कि इस से बहुत से लोगों को आपत्ति भी है और तकलीफ भी .हमारी मंशा कोई कष्ट देने की नही थी. सांप्रदायिक माहौल सुधारना प्रशासनिक एवं नैतिक ज़िम्मेदारी है हम लोगों की. हमारे मुस्लिम हमारे भाई है .. हमारे ही रक्त .. DNA एक ही है हमारा .हमें उन्हे वापस लाना नही आया . इस पर फिर कभी ... एकीकरण व समरसता के भाव को ज़ितनी जल्दी हम समझे ऊतना बेहतर है देश के लिए हमारे प्रदेश हमारे जनपद के लिए . पाकिस्तान शत्रु है ...इसमे कोई सन्देह नही . हमारे मुस्लिम हमारे हैं .. इसमे भी कोई संदेह नही . मैं चाहता हूँ यह विवाद खत्म हो . I do apologise if our freinds न brothers r pained because of me.' डीएम ने फेसबुक पोस्ट से अपनी मंशा साफ तौर पर जाहिर कर दी और लिखा कि अगर मेरे पिछले पोस्ट से किसी को ठेस पहुंची है तो मैं माफी मांगता हूं. बता दें कि बरेली के डीएम राघवेंद्र की ये सफाई उस पोस्ट पर आई, जिस पर काफी बवाल मचा था  और आरोप था कि उन्हें ऐसे पोस्ट से बचना चाहिए, क्योंकि इससे हिंसा की आग और भड़कती है. राघवेंद्र ने अपने फेसबुक पर एक पोस्ट किया था, जिसे कासगंज हिंसा से जोड़कर लोगों ने देखा था. उन्होंने अपने पोस्ट में मुस्लिम मुहल्ले में जुलूस निकालने और पाकिस्तान मुर्दाबाद के नारे लगाने से संबंधित पोस्ट 28 जनवरी को किया था. हालांकि, बढ़ता विवाद देख उन्होंने अपने पोस्ट को हटा लिया और बाद में उस पोस्ट के संदर्भ में सफाई पेश की.  बता दें कि 26 जनवरी के दिन देश की राजधानी दिल्ली से 170 किलोमीट दूर शहर में हुए दो गुटों के बीच हुए संघर्ष में 22 साल के चंदन गुप्ता की मौत हो गई थी. ये घटना तब हुई थी, जब विश्व हिंदू परिषद और अखिल भारतीय विद्यार्थी के कार्यकर्ताओं द्वारा तिरंगा बाइक रैली निकाली जा रही थी.

 
Have something to say? Post your comment
More National

तमिलनाडु के पूर्व मुख्यमंत्री और डीएमके प्रमुख एम करुणानिधि का निधन

दर्दनिवारक वोवेरान इंजेक्शन बैन, किडनी पर पड़ रहा था असर

दिल्ली-एनसीआर समेत पूरे उत्तर भारत में आंधी-बारिश का कहर, 56 लोगों की मौत, 27 फ्लाइट डायवर्ट

शववाहन नहीं दिया गया, कंधे पर उठाकर अस्पताल से घर ले जाना पड़ा पत्नी का शव

IIT के 50 पूर्व छात्रों ने नौकरियां छोड़कर बनाई राजनीतिक पार्टी, जानिये क्या है कारण

जेएनयू के एक और प्रोफेसर पर लगा छेड़खानी का आरोप, मामला दर्ज

छोले-भटूरे से फिरा पानी, इन तीन विवादों में घिर गया राहुल गांधी का उपवास

मेघालय : स्वास्थ्य मंत्री के बेटे की कार ने ली पुलिसकर्मी की जान

खतरे में पंजाब नेशनल बैंक, घोषित हो सकता है डिफॉल्टर

घोटाला: गर्भवती महिलाओं-बच्चों के भोजन में भारी घोटाला, 1.38 लाख फर्जी लाभार्थी पकड़े गए

 
 
 
 
 
 
Copyright © 2017 Star Khabre All rights reserved.
Website Designed by Mozart Infotech