Latest :
सुशांत सिंह राजपूत के पिता से मिले हरियाणा मुख्यमंत्री मनोहर लालफाइनल ईयर की परीक्षा कराने का फैसला वापिस ले यूजीसी : नीरज कुंदनके० एल० महत्ता दयानंद पब्लिक सी० सै० स्कूल नंबर 1, नेहरू ग्राउंड के विद्यार्थियों ने 12वीं के रिजल्ट में लहराया परचमजल्द से जल्द धार्मिक स्थलों को खोलने की इजाज़त दे सरकार : संजय भाटियाभोले-भाले लोगों को ठगने वाले एक शातिर गिरोह का खुलासाफरीदाबाद पुलिस ने जनहित में साईबर फ्रॉड से बचने के लिए जारी की एडवाइजरी COVID-19 के खतरे को शिक्षा के नए मॉडल में बदलने पर चर्चाफाइनल ईयर के छात्रों की परीक्षा कराने का फैसला छात्र विरोधी, जल्द वापिस ले भाजपा सरकार : कृष्ण अत्रीNSUI ने किया ऑनलाइन एडमिशन पोर्टल लांचUGC को परीक्षा पर पुनर्विचार करने का निर्देश, NSUI का मिला समर्थन
Faridabad

फाइनल ईयर के छात्रों की परीक्षा कराने का फैसला छात्र विरोधी, जल्द वापिस ले भाजपा सरकार : कृष्ण अत्री

July 09, 2020 05:40 PM

Star Khabre, Faridabad; 09th July : आज एनएसयूआई फरीदाबाद के कार्यकर्ताओं ने फाइनल ईयर के छात्रों की परीक्षा लेने के विरोध में YMCA यूनिवर्सिटी के गेट पर धरना दिया। इस धरने का नेतृत्व एनएसयूआई हरियाणा के प्रदेश महासचिव कृष्ण अत्री ने किया। इस दौरान कार्यकर्ताओं ने केंद्रीय मंत्री रमेश पोखरियाल और मनोहरलाल खट्टर के खिलाफ जमकर नारेबाजी की।

एनएसयूआई हरियाणा के प्रदेश महासचिव कृष्ण अत्री ने कहा कोरोना महामारी के प्रकोप को देखने के बावजूद यूजीसी ने फाइनल ईयर के छात्रों की परीक्षा कराने का फैसला लिया है जोकि छात्रों की जान को जोखिम में डालने वाला तुगलकी फरमान है। केंद्र और प्रदेश की भाजपा सरकार बार-बार छात्रों की परीक्षाओं को लेकर अपने फैसले बदलती जा रही है। एनएसयूआई की मांग पर गत 12 जून को नॉन फाइनल ईयर तथा गैर-हरियाणवी फाइनल ईयर के छात्रों को बिना परीक्षा पास किया गया था और फाइनल ईयर, री-अपीयर और डिस्टेंस एजुकेशन के छात्रों को वंचित रख दिया था। ऐसे में एनएसयूआई ने सड़क से लेकर न्यायालय तक की लड़ाई लड़ी और 23 जून को फाइनल ईयर, री-अपीयर और डिस्टेंस एजुकेशन के छात्रों को भी पास कर दिया गया। लेकिन इस फैसले के बाद केंद्रीय शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल की देखरेख में यूजीसी ने आननफानन में 6 जुलाई को फाइनल ईयर के छात्रों की परीक्षा कराने का फैसला लिया है जोकि सरासर छात्रों के समानता के अधिकार का हनन है। 

वहीं कृष्ण अत्री ने बाकी छात्र संगठनों पर हमला बोलते हुए कहा कि सरकार ने जब हरियाणा एनएसयूआई की मांग पर छात्रों को पास किया था तो  वो श्रेय लेने के चक्कर में सबसे पहले खड़े थे लेकिन आज जब सरकार ने फाइनल ईयर के छात्रों की परीक्षा कराने का फैसला लिया है जब वो सरकार के पिट्ठू छात्र संगठन की तरह सरकार की भाषा बोलते हुए इस फैसले का स्वागत कर रहे है, उन्हें शर्म आनी चाहिए खुद को छात्र संगठन कहते हुए। कृष्ण अत्री ने हरियाणा सरकार को चेतावनी भी दी कि फैसला ना बदले अन्यथा एनएसयूआई का सड़क से न्यायालय तक का संघर्ष जारी रहेगा।  

इस मौके पर रूपेश झा, निशांत चंदीला, धर्मेंद्र शर्मा, अमित कुमार, राहुल वर्मा, धीरज शर्मा, साहिल खान, अंश पंडित, सूरज कुमार, निखिल कश्यप, हरीश कुमार, रवि राजपूत, दीपक आदि मौजूद थे।

 
Have something to say? Post your comment
More Faridabad

सुशांत सिंह राजपूत के पिता से मिले हरियाणा मुख्यमंत्री मनोहर लाल

के० एल० महत्ता दयानंद पब्लिक सी० सै० स्कूल नंबर 1, नेहरू ग्राउंड के विद्यार्थियों ने 12वीं के रिजल्ट में लहराया परचम

जल्द से जल्द धार्मिक स्थलों को खोलने की इजाज़त दे सरकार : संजय भाटिया

भोले-भाले लोगों को ठगने वाले एक शातिर गिरोह का खुलासा

फरीदाबाद पुलिस ने जनहित में साईबर फ्रॉड से बचने के लिए जारी की एडवाइजरी

COVID-19 के खतरे को शिक्षा के नए मॉडल में बदलने पर चर्चा

चंडीगढ़ हाई कोर्ट पहुंचा हरियाणा परीक्षा परिणाम का मसला

ठेके की राशि की बंदरबांट के चलते कैसे होगी सब्जी मंडी की सफाई, पढ़े क्या है पूरा मामला

एनएसयूआई हरियाणा का सड़क से लेकर न्यायालय तक का संघर्ष लाया रंग, खट्टर-दुष्यंत सरकार से टिकवाए घुटने : कृष्ण अत्री

कोरोना गर्मी के साथ प्रचंड रूप में, 5 की मौत 174 नए मरीज

 
 
 
 
 
 
Copyright © 2017 Star Khabre All rights reserved.
Website Designed by Mozart Infotech