Latest :
सोनल गोयल ने किया शाखाओं का औचक निरीक्षण, 6 कर्मचारियों को कारण बताओ नोटिस जारीपार्कों में लगने वाले धौलपुर स्टोन का भूमि पूजन।शेयर बाजार फिर गिरावट की ओर, 250 से ज्यादा अंक लुढ़का सेंसेक्सक्रिकेट के बाद अब कपिल देव शुरू करेंगे नई पारी चैम्पियंस गोल्फ टूर्नामेंट में लेंगे भागपेट्रोलियम डीलर्स एसोसिएशन का आरोप, चंडीगढ़ के डीलर्स अवैध तरीके से कर रहे पेट्रोल की सप्लाईढाई साल की अंजलि को बेल्जियम के परिवार ने लिया गोद, कहा- अब कंप्लीट हुआ परिवारसलमान खान के पीछे-पीछे सेरेमनी में पहुंचा कुत्ता, सोशल मीडिया यूजर्स दे रहे मजेदार रिएक्शनप्रदेश में अलगे दो दिन भारी बारिश का अलर्ट, मौमस विभाग ने जारी किया येलो अलर्टक्लर्क पद की परीक्षा के मद्देनजर धारा- 144 मनोहर लाल ने जो कहा उसे पूरा किया : कृष्ण पाल
Business

जानिए क्या हैं Gratuity के नियम और कैसे करते हैं इसका कैलकुलेशन

August 19, 2019 12:00 PM

Star Khabre, Faridabad; 19th August : जब कोई कर्मचारी किसी कंपनी में कम से कम 5 साल काम कर लेता है, तो कंपनी की तरफ से उसे एकमुश्त रकम दी जाती है, जिसे ग्रैच्युटी कहते हैं। अपने कर्मचारियों को ग्रैच्युटी देना केवल कंपनी की जिम्मेदारी ही नहीं बनती, बल्कि यह कानूनी रूप से अनिवार्य भी है। पेमेंट ऑफ ग्रैच्युटी एक्ट, 1972 के अंतर्गत ग्रैच्युटी का फायदा उस संस्थान के कर्मचारी को मिलता है, जहां 10 से अधिक कर्मचारी हों। कर्मचारी द्वारा नौकरी से इस्तीफा दे देने, रिटायरमेंट हो जाने, अथवा कर्मचारी के दुर्घटना या बीमारी के कारण अपंग हो जाने पर भी कंपनी द्वारा ग्रैच्युटी की रकम दी जाती है, बशर्ते उसे कंपनी में काम करते हुए 5 साल पूरे हो चुके हों। कर्मचारी की मृत्यु हो जाने पर भी ग्रैच्युटी का प्रावधान है और इसमें 5 साल की सेवा का नियम लागू नहीं होता है।

ऐसे होती है ग्रैच्युटी की गणना

ग्रैच्युटी की राशि और इस पर लगने वाले आयकर की गणना के लिए अलग-अलग नियम हैं। ग्रैच्युटी एक्ट के दायरे में आने वाले कर्मचारियों, एक्ट के दायरे में नहीं आने वाले कर्मचारियों और सरकारी कर्मचारियों के लिए भिन्न नियम हैं। आपको बता दें कि कर्मचारी के प्रत्येक साल की सेवा के लिए कंपनी को पिछली सैलरी (बैसिक सैलरी+महंगाई भत्ता+कमीशन) के 15 दिनों के बराबर की रकम ग्रैच्युटी के रूप में देने होती है। साथ ही अगर कोई कर्मचारी अपनी सर्विस के अंतिम साल से छह महीने से ज्यादा काम करता है, तो उसे ग्रैच्युटी की गणना करते समय पूरा एक साल माना जाता है। जैसे अगर कोई कर्मचारी अपनी कंपनी में 5 साल 7 महीने सेवा देता है, तो ग्रैच्युटी की गणना 6 सालों की सर्विस के आधार पर होगी।

ऐसे पता करें अपनी ग्रैच्युटी

किसी भी कर्मचारी की ग्रैच्युटी की रकम दो चीजों पर निर्भर करती है। कर्मचारी ने उस कंपनी में कितने साल काम किया है और उसकी अंतिम सैलरी क्या थी। इस सैलरी में बेसिक सैलरी और महंगाई भत्ता (DA) शामिल होता है। अपनी ग्रैच्युटी की रकम की गणना करना बहुत आसान है। इसके लिए आपको उस कंपनी में अपने सेवा के कुल सालों को 15 दिन की सैलरी से गुणा करना होगा। यहां 15 दिन की सैलरी सेवा के आखिरी महीने की सैलरी (बेसिक सैलरी और डीए) के आधार पर तय होती है। ग्रैच्युटी की गणना में एक महीने की सर्विस को 26 दिन के काम के रूप में माना जाता है। 15 दिन की सैलरी की गणना भी इसी आधार पर की जाती है।

इस तरह 15 दिनों की सैलरी निकालने के लिए आपको आखिरी महीने की सैलरी (मूल वेतन और डीए) में 26 से भाग देकर जो आए उसमें 15 से गुना करना होता है। अब ग्रैच्युटी की रकम निकालने के लिए आपको इस राशि को सेवा के कुल वर्षों से गुणा करना होगा।

30 दिन के अंदर ग्रैच्युटी का भुगतान करना जरूरी

कर्मचारी के कंपनी में अंतिम दिन से 10 दिनों के अंदर कंपनी को ग्रैच्युटी की रकम देनी होती है। यदि ग्रैच्युटी के भुगतान में 30 दिनों से ज्यादा की देरी होती है तो कंपनी को इस पर ब्याज भी देना होता है।

 
Have something to say? Post your comment
More Business

शेयर बाजार फिर गिरावट की ओर, 250 से ज्यादा अंक लुढ़का सेंसेक्स

मंत्री रविशंकर प्रसाद ने कहा- एपल की भारत में बड़ी कारोबारी योजनाएं

आरबीआई गवर्नर ने कहा- जीडीपी की 5% ग्रोथ ने चौंकाया, सुधार का अनुमान लगाना अभी मुश्किल

सेंसेक्स 263 अंक लुढ़का, निफ्टी 87 प्वाइंट गिरकर 11000 के नीचे फिसला

सेंसेक्स की शीर्ष 10 कंपनियों में से छह का बाजार पूंजीकरण बढ़ा, शीर्ष पर TCS

पैनल का सुझाव- एग्रीकल्चर सेक्टर के लिए जीएसटी जैसी संस्था बने, सरकार कर्जमाफी से बचे

Share Market: मामूली बढ़त के साथ खुला शेयर बाजार, इन कंपनियों के शेयरों में तेजी

मारुति ने कहा- कैब सर्विस तो 7 साल से है, पिछले कुछ महीनों में ही बिक्री क्यों घटी

सेंसेक्स में 150 अंक की बढ़त, निफ्टी 40 प्वाइंट चढ़कर 11050 के करीब पहुंचा

सरकार के 100 दिन में निवेशकों को 12.5 लाख करोड़ रुपए का नुकसान हुआ

 
 
 
 
 
 
Copyright © 2017 Star Khabre All rights reserved.
Website Designed by Mozart Infotech