Latest :
पीजीआई हॉस्पिटल की 5वीं मंजिल पर स्थित कैंटीन से उठी लपटें, फायर टीम ने आग पर काबू पायामशहूर एक्ट्रेस की बेटी ने कहा- मैं कार्तिक आर्यन संग कर सकती हूं बेड शेयरएसटीएफ ने भारी मात्रा में चरस की बरामद, एक आरोपी गिरफ्तार, दो फरारजेडीएस नेता और पूर्व राज्य मंत्री अमरनाथ शेट्टी का 80 साल की उम्र में निधनसरकार एयर इंडिया की 100% हिस्सेदारी मैनेजमेंट कंट्रोल के साथ बेचेगी, 17 मार्च तक बोलियां मांगीभारतीय टीम पहली बार न्यूजीलैंड के खिलाफ लगातार दो टी-20 जीती, दूसरे मैच में 7 विकेट से हरायाखराब दौर से उबर सकते हैं ऋषभ पंत, कपिल देव ने दिया वापसी का मंत्रलॉन्च हुआ '83' का फाइनल मोशन पोस्टर, बॉलीवुड के 'कपिल' की पूरी टीम से यहां मिलिएFastag के बाद आ गया फास्टलेन, अब पेट्रोल पंप पर भुगतान करना होगा आसानअवैध निर्माणः पांच मौतों के बाद लोगों ने लगाया आरोप, निगम की कोताही हादसे की वजह
Business

ज्यादा टेकहोम सैलरी के लिए PF कंट्रीब्यूशन घटाने का मिलेगा ऑप्शन, नए बिल में कई बड़े बदलाव

December 09, 2019 11:10 AM

Star Khabre, Faridabad; 09th December : सरकार कामकाजी लोगों को प्रॉविडेंट फंड में योगदान घटाने का विकल्प दे सकती है ताकि उनकी टेकहोम सैलरी बढ़े। अधिकारियों का कहना है कि इससे कंजम्पशन डिमांड बढ़ाने में मदद मिल सकती है, जिसमें सुस्ती के कारण इकनॉमिक ग्रोथ कम हो गई है।

लेबर मिनिस्ट्री के इस प्रस्ताव के मुताबिक, प्रॉविडेंट फंड में कंपनी का योगदान 12 प्रतिशत के मौजूदा स्तर पर बना रहेगा। ये बातें सोशल सिक्यॉरिटी बिल 2019 में शामिल हैं, जिसे पिछले हफ्ते कैबिनेट ने मंजूरी दी थी। मंत्रालय ने एंप्लॉयीज प्रॉविडेंट फंड ऑर्गनाइजेशन (EPFO) और एंप्लॉयीज स्टेट इंश्योरेंस कॉर्पोरेशन (ESIC) की मौजूदा स्वायत्तता को बरकरार रखने का भी फैसला किया है, जबकि पहले उसने इन्हें कॉर्पोरेट जैसी शक्ल देने का प्रस्ताव दिया था।

 50 करोड़ लोगों को सामाजिक सुरक्षा

इस बिल के जरिए देश में 50 करोड़ लोगों को सामाजिक सुरक्षा देने की दिशा में सरकार ने एक और कदम बढ़ाया है। इस विधेयक में कॉर्पोरेट सोशल रिस्पॉन्सिबिलिटी (CSR) के तहत एक सामाजिक सुरक्षा कोष यानी सोशल सिक्यॉरिटी फंड बनाने की बात भी कही गई है। इसमें कहा गया है कि गिग वर्कर्स सहित सभी वर्कर्स को पेंशन, मेडिकल, बीमारी, मातृत्व, मृत्यु और अपंगता से जुड़े वेलफेयर बेनेफिट्स दिए जाएंगे हटा दिए गए विवादित प्रस्ताव
एक सरकारी अधिकारी ने नाम नहीं जाहिर करने की शर्त पर बताया, 'हमने सभी विवादास्पद प्रस्ताव हटा दिए हैं और ध्यान सिर्फ वर्कर्स की भलाई पर रखा है। हम देश में ईज ऑफ डूइंग बिजनस को भी सुधारना चाहते हैं। हम मौजूदा लेबर कानूनों को एक कोड के तहत ला रहे हैं।

नैशनल पेंशन सिस्टम में शिफ्ट करने का प्रस्ताव भी वापस

लेबर मिनिस्ट्री ने EPFO सब्सक्राइबर्स को नैशनल पेंशन सिस्टम में शिफ्ट करने का विकल्प देने का पिछला प्रस्ताव भी वापस ले लिया है। उसने इस मामले में वित्त मंत्रालय की सलाह मानने से इनकार कर दिया। लेबर मिनिस्ट्री ने अपने फैसले के हक में EPFO से मिलने वाले ऊंचे रिटर्न और अन्य फायदों का जिक्र किया है। उसने यह भी कहा कि EPFO में हर स्तर पर निवेशकों को टैक्स छूट मिलती है। माना जा रहा है कि सोशल सिक्योरिटी बिल को इसी हफ्ते संसद में पेश किया जाएगा।

10 वर्कर्स हैं तो ESIC के फायदे, ग्रैच्युटी के लिए 5 साल की शर्त नहीं

बिल के मुताबिक, जिन इकाइयों में कम से कम 10 मजदूर काम करते हैं, उन्हें ESIC के तहत वर्कर्स को कई फायदे देने होंगे और यह खतरनाक काम करने वाले वर्कर्स के लिए अनिवार्य होगा। जिन कंपनियों में 10 से कम मजदूर काम करते हैं, वे ESIC स्कीम के तहत स्वैच्छिक रूप से ये फायदे अपने वर्कर्स को दे सकती हैं। इसके साथ, फिक्स्ड टर्म कॉन्ट्रैक्ट वर्कर्स प्रो-राटा बेसिस पर ग्रैच्युटी पाने के हकदार होंगे। उन्हें इसके लिए अब एक कंपनी में कम से कम पांच साल तक काम नहीं करना पड़ेगा। सोशल सिक्यॉरिटी कोड में 8 केंद्रीय श्रम कानूनों को समाहित किया गया है।

 
Have something to say? Post your comment
More Business

सरकार एयर इंडिया की 100% हिस्सेदारी मैनेजमेंट कंट्रोल के साथ बेचेगी, 17 मार्च तक बोलियां मांगी

Fastag के बाद आ गया फास्टलेन, अब पेट्रोल पंप पर भुगतान करना होगा आसान

50 से ज्यादा उत्पादों पर सीमा शुल्क बढ़ा सकती है सरकार, महंगा हो जाएगा खरीदना

सपाट स्तर पर खुला बाजार, सेंसेक्स 41,000 के पार

करदाताओं के लिए खुशखबरी, GST रिटर्न के लिए अब अलग-अलग होगी अंतिम तारीख

लगातार छह दिन की कटौती के बाद पेट्रोल-डीजल की कीमत में नहीं हुआ कोई बदलाव

केंद्र सरकार को मिली यूनिटेक के प्रबंधन की कमान, सेवानिवृत्त जज करेंगे निगरानी

रिकॉर्ड: 200 अंकों की तेजी के साथ 42,000 के ऊपर खुला सेंसेक्स, निफ्टी 12,000 के पार

Budget 2020: जूता उद्यमियों की मांग- लोन पर ब्याज दरें कम हों, एमएसएमई का दायरा बढ़े

रिलायंस इंडस्ट्रीज का मुनाफा 13.5% बढ़कर 11640 करोड़ रुपए, यह अब तक का सबसे ज्यादा

 
 
 
 
 
 
Copyright © 2017 Star Khabre All rights reserved.
Website Designed by Mozart Infotech