Latest :
ट्रैफिक पुलिस फरीदाबाद ने मनाया सड़क सुरक्षा माहउपायुक्त यशपाल के कुशल मार्गदर्शन में विभाग द्वारा नुक्कड़ नाटक का किया मंचन क्राइम ब्रांच ने जेबकतरे को किया गिरफ्तार, 6000 की राशि हुई बरामदशहीद हुए लेफ्टिनेंट ऋषभ शर्मा का राजकीय सम्मान के साथ किया गया अंतिम संस्कारकिसान आंदोलन का समर्थन कर रहे जगन डागर को पुलिस ने किया नजरबंदपुरातत्व एवं संग्रहालय राज्य मंत्री अनूप धानक करेंगे गणतंत्र दिवस पर ध्वजारोहणकोरोना वैक्सीन की हुई शुरुआत, हरियाणा के परिवहन एवं खनन विभाग के कैबिनेट मंत्री मूलचंद शर्मा ने किया शुभारंभकोरोना से डरने की जरूरत नही, वैक्सीन लगवाकर बीमारी से लड़ाई लड़कर जीतना होगा : कृष्णपाल गुर्ज्जरमोस्ट वांटेड अपराधी मनोज मंगरिया का साथी अवैध हथियार सहित गिरफ्तारवैक्सीनेशन पूर्ण होने तक मास्क पहनना जरूरी- पुलिस उपायुक्त डॉ अर्पित जैन
Business

प्याज किसानों की मदद के लिए Nafed ने संभाली कमान, सरकारी खरीद हुई शुरू

June 15, 2020 10:08 AM

Star Khabre, Business; 15th June : प्याज की अच्छी पैदावार के बीच घटते भाव देख सरकार ने सतर्कता बरतते हुए घरेलू बाजार में नैफेड को सरकारी खरीद के लिए उतार दिया है। सहकारी एजेंसी नैफेड (Nafed) ने चालू सीजन में एक लाख टन प्याज का बफर स्टॉक बनाने का फैसला किया है, जो अब तक का सर्वाधिक है। शुरुआती दौर में ही तेज रफ्तार खरीद से नैफेड के पास 25 हजार टन प्याज का स्टॉक हो चुका है। 'फार्मर्स प्रोड्यूसर ऑर्गनाइजेशन', सरकारी संस्थाओं और मंडियों में स्थापित खरीद केंद्रों से एजेंसी प्याज की सरकारी खरीद कर रही है।

नैफेड ने पिछले साल रबी सीजन में 57 हजार टन प्याज की खरीद की थी, लेकिन इस बार प्याज खरीद का लक्ष्य लगभग दोगुना यानी एक लाख टन कर दिया गया है। इससे जहां किसानों को सीधी मदद मिल जाएगी, वहीं उपभोक्ताओं को गैर-फसल मौसम में प्याज की पर्याप्त आपूर्ति की जा सकेगी। महाराष्ट्र, मध्य प्रदेश और गुजरात के एफपीओ, सहकारी संस्थाओं और खरीद केंद्रों से तकरीबन 25 हजार टन प्याज की खरीद कर ली गई है। देश की विभिन्न मंडियों में प्याज का फिलहाल मूल्य 10 से 14 रुपये प्रति किलो के भाव चल रहा है। जबकि बड़े शहरों में प्याज का मूल्य 20 से 30 रुपये प्रति किलो तक है।

प्याज का उत्पादन पिछले साल के 2.28 करोड़ टन के मुकाबले वर्ष 2019-20 में बढ़कर 2.67 करोड़ टन हो गया है। इससे पूरे साल कीमत के काबू में रहने की संभावना है। लेकिन इसके मद्देनजर घरेलू बाजार में दाम घटने लगे तो सरकार अपनी एजेंसी को बफर स्टॉक की खरीद के लिए मंडियों में उतार दिया है। प्याज के स्टॉक को सुरक्षित बनाए रखने के लिए तकनीकी सेवाएं ली जा रही हैं। प्याज की क्वालिटी को सुरक्षित बनाए रखने के लिए मध्य प्रदेश में शुरू की गई परियोजना सफल रही है। महाराष्ट्र, मध्य प्रदेश में बढ़ाई जाएगी भंडारण की सुविधा

नैफेड प्रबंधन का कहना है कि प्याज के भंडारण को लेकर इस वर्ष एजेंसी अपने संसाधनों का ज्यादा इस्तेमाल करेगी। महाराष्ट्र और मध्य प्रदेश में राज्य सरकार की मदद से एजेंसी 30 हजार टन प्याज भंडारण की सुविधा बढ़ाएगी। प्याज किसानों के समर्थन में एजेंसी सरकारी खरीद को अंजाम दे रही है। नैफेड ने विभिन्न राज्य सरकारों से भी गैर--फसल मौसम या ऑफ सीजन में प्याज की अपनी जरूरतें बताने का आग्रह किया है।

ऑफ सीजन की तैयारी

अगस्त महीने से लेकर नवंबर के बीच प्याज का ऑफ सीजन होता है, जब बाजार में आपूर्ति घट जाती है। ऐसे में कीमतें तेज होने पर चौतरफा हो-हल्ला मचने लगता है और बाजार को संभालना मुश्किल हो जाता है। सरकार ऐसी किसी स्थिति से बचना चाहती है।

 
Have something to say? Post your comment
More Business

Coca Cola अगले 30 दिन तक सोशल मीडिया पर नहीं देगी विज्ञापन, जानें क्या है इस फैसले की वजह

पिछले दिनों में हुए Income Tax से जुड़े ये 6 बदलाव, जिन्हें जानना आपके लिए है जरूरी

ब्राजील से ठुकराए जाने के बाद अब भारत में वाट्सऐप पे लॉन्च करने का रास्ता साफ!

जानिए प्रवासी मजदूरों को वापस लाने के लिए अब क्या-क्या पापड़ बेल रही हैं कंपनियां

सोने-चांदी के वायदा भाव में गिरावट, वैश्विक कीमतें भी लुढ़कीं, जानिए क्या हैं दाम

केवल नारे से नहीं चलेगा काम, डोकलाम के बाद चीन से दवा आयात 28% बढ़ा

पेट्रोल-डीजल के दाम में लगातार 14वें दिन बढ़ोत्तरी, जानें आपके शहर में क्या हो गए हैं रेट

चांदी की कीमतों में गिरावट, साेना और हुआ महंगा, जानें 19 जून का ताजा भाव

PM Modi ने लॉन्‍च की कोयला खानों की नीलामी, बोले- भारत COVID संकट को अवसर में बदलेगा

ट्रेन में किसी ने छोड़ दीं 14.48 करोड़ रुपये के सोने की ईंटें, नौ महीने से नहीं आया कोई दावेदार

 
 
 
 
 
 
Copyright © 2017 Star Khabre All rights reserved.
Website Designed by Mozart Infotech